मोदी सरकार का बड़ा फैसला, ऑटोमैटिक रूट से सिंगल ब्रांड रिटेल में सौ फीसदी FDI को मंजूरी

नई दिल्लीः भारतीय अर्थव्यवस्था को मजबूती देने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में आज कुछ अहम फैसले लिए गए हैं. बैठक में आज एफ.डी.आई. नियमों में बदलाव करते हुए सिंगल ब्रांड रिटेल में ऑटोमैटिक रूट से 100 फीसदी एफ.डी.आई. को मजूरी दे दी गई. इसके अलावा एविएशन और कंस्ट्रक्शन सेक्टर में भी एफ.डी.आई. नियमों में छूट दी गई है.

फिलहाल अभी 49 फीसदी ज्यादा एफ.डी.आई. के लिए मंजूरी लेनी पड़ती है. खास बात ये है कि जब यूपीए सरकार सत्ता में थी तब विपक्ष में बैठी बीजेपी एफडीआई का घोर विरोध करती थी.

क्या है नया फैसला:- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में एफडीआई (फॉरेन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट) नियमों को लेकर बड़ा फैसला लिया गया है. नए फैसले के तहत सिंगल ब्रैंड रिटेल में ऑटोमैटिक रूट से 100 फीसदी एफडीआई को मंजूरी दे दी गई. इससे पहले एफडीआई के तहत निवेश करने पर सरकार से मंजूरी लेनी पड़ती थी, लेकिन अब सभी शर्तें पूरी करने पर कैबिनेट से मंजूरी नहीं लेनी होगी. अगर आसान शब्दों में समझें तो निवेश मंजूरी की प्रक्रिया बेहद आसान हो जाएगी.

इससे क्या होगा:- वीएम पोर्टफोलियो के हेड विवेक मित्तल ने बताया कि यह फैसला रिटेल कंपनियों के लिए बड़ी राहत की खबर लाया है. सिंगल ब्रैंड रिटेल में 100 फीसदी एफडीआई तो पहले था, लेकिन ऑटोमेटिक रूट्स के जरिए निवेश को मंजूरी से कंपनियों का निवेश करना आसान हो जाएगा. विदेशी कंपनियां अब भारत में किसी भी कंपनी को आसानी से खरीद सकती है. साथ ही, विस्तार करने के लिए उन्हें सरकार से मंजूरी नहीं लेनी होगी. लिहाजा ऐसे में नए प्लांट भी लगेंगे और रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे.

क्या है FDI:- सामान्य भाषा में समझें तो किसी एक देश की कंपनी का दूसरे देश में किया गया निवेश प्रत्यक्ष विदेशी निवेश यानी एफडीआई कहलाता है. ऐसे निवेश से निवेशकों को दूसरे देश की उस कंपनी के प्रबंधन में कुछ हिस्सा हासिल हो जाता है जिसमें उसका पैसा लगता है. आमतौर पर माना यह जाता है कि किसी निवेश को एफडीआई का दर्जा दिलाने के लिए कम-से-कम कंपनी में विदेशी निवेशक को 10 फीसदी शेयर खरीदना पड़ता है. इसके साथ उसे निवेश वाली कंपनी में मताधिकार भी हासिल करना पड़ता है.

एफडीआई के फायदे:- एफडीआई से विदेशी निवेशक और निवेश हासिल करने वाला देश, दोनों को फायदा होता है. निवेशक को यह नए बाजार में प्रवेश करने और मुनाफा कमाने का मौका देता है. विदेशी निवेशकों को टैक्स छूट, आसान नियमों, लोन पर कम ब्याज दरों और बहुत सी बातों से लुभाया जाता है. एफडीआई से घरेलू अर्थव्यवस्था में नई पूंजी, नई प्रौद्योगिकी आती है और रोजगार के मौके बढ़ते हैं और इस तरह के बहुत से फायदे होते हैं.

Web Title : 100% FDI approval in single brand retail from automatic route