200 करोड खर्च होंगे विधानसभा चुनाव पर, निर्वाचन विभाग ने तैयार किया खर्च का एस्टीमेट

-पिछले चुनाव से 57 करोड़ अधिक होंगे खर्च, चुनाव पर जीएसटी का असर

जयपुर। प्रदेश में चार माह बाद होने वाले विधान सभा चुनाव पर 200 करोड रुपए का खर्चा आएगा। यह खर्चा वर्ष 2013 के विधान सभा चुनाव के 50 करोड ज्यादा है। निर्वाचन विभाग विधान सभा चुनाव के दौरान और क्या क्या खर्चे हो सकते हैं इसके भी आंकलन में जुटा है।

निर्वाचन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार वर्ष 2013 में विधान सभा चुनाव पर निर्वाचन विभाग ने 143 करोड रुपए खर्च किए है। पांच साल में चुनाव सामग्री की कीमतें बढने, कुछ सामग्रियों पर जीएसटी लगने से कीमतें बढने के कारण इस बार निर्वाचन विभाग ने विधान सभा चुनाव पर 50 करोड रुपए ज्यादा खर्च करने होंगे।

निर्वाचन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि अभी तक खर्चे का जो एस्टीमेट लगाया है उस हिसाब से यह खर्च 200 करोड रुपए का बैठ रहा है। सर्वाधिक खर्च चुनाव डयूटी में लगने वाले कर्मचारियों के मानदेय व वाहनों में डीजल के पेटे खर्च होते है। हालांकि अब ईवीएम मशीन आने के बाद बैलेट पैपर का खर्च खत्म हो गया है। मतदान केन्द्रों पर मतदाताओं के लिए बिजली, पानी, छाया, रैंप की व्यवस्था भी निर्वाचन विभाग ही करता है और इन व्यवस्थाओं पर भी निर्वाचन विभाग एक मोटी रकम खर्च करता है।

Web Title : 200 crore will be spent on assembly elections