2000 रुपये के नोटों की छपाई होगी बंद, अब सरकार ने दिया बड़ा बयान

2000 रुपये के नोट की छपाई को फिलहाल रोक दिया गया है. सरकार ने शुक्रवार को यह संकेत दिए हैं कि 2000 रुपये के नोटों की छपाई बंद होगी. सरकार का कहना है कि अभी 2000 रुपये के नोट पर्याप्त मात्रा में चलन में हैं. इसलिए इसकी छपाई बंद कर दी गई है. बता दें कि नवंबर 2016 में सरकार द्वारा नोटबंदी किए जाने के बाद 2000 रुपये की करंसी बाजार में लाई गई थी.

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद जारी किए जाने के दो साल बाद ही 2000 रुपए के नोटों की छपाई बंद कर दी गई। मीडिया रिपोर्ट में इसका खुलासा होने के बाद सरकार ने इसपर अपनी सफाई दी है। 2000 रुपए के नोटों की छपाई बंद करने पर आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने सरकार की ओर से सफाई दी और ट्वीट कर लिखा कि 2000 के नोटों की संख्या पर्याप्त है। बाजार में 2000 रुपए के नोटों की कोई कमी है, जिसकी वजह से 2000 रुपए के नोटों की छपाई को लेकर कोई फैसला नहीं हुआ है।

आर्थिक मामलों के सचिव ने कहा कि अनुमानित जरूरतों के मुताबिक नोटों की छपाई की योजना बनती है। वर्तमान में सिस्टम में कुल सर्कुलेशन के 35 फीसदी नोट 2000 रुपए के हैं, जो कि पर्याप्त से अधिक है। पर्याप्त मात्रा में होने की वजह से 2000 रुपए के नोटों की छपाई को लेकर कोई फैसला नहीं लिया गया है। आपको बता दें कि हाल ही में मीडिया में रिपोर्ट्स आई कि आरबीआई ने 2000 रुपए के नोटों की प्रिटिंग रोक दी है।

रिजर्व बैंक के आंकड़ों में मार्च, 2017 के अंत तक 328.5 करोड़ इकाई 2000 के नोट चलन में थे, वहीं 31 मार्च, 2018 के अंत तक इन नोटों की संख्या 336.3 करोड़ हुई। 2000 रुपए के नोटों में मामूली बढ़त हुई। इस रिपोर्ट पर अब सरकार ने अपनी राय रखी है। गौरतलब है कि 2016 में नोटबंदी के बाद रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने 500 और 1000 रुपए के नोटों को पूरी तरह से बैन कर दिया। जिसके बाद आरबीआई ने 2000 रुपए के नोट और 500 रुपए के नए नोट जारी किए।

Web Title : 2000 rupees notes will be printed, now the government has given a big statement