UP और उत्तराखंड में जहरीली शराब से 90 लोगों की मौत, सैकड़ों गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में जहरीली शराब से मरने वालों की संख्या बढ़कर करीब 90 तक जा पहुंची है. दोनों राज्यों की सरकार ने प्रशासन को कार्रवाई के निर्देश दे दिए हैं. उत्तर प्रदेश के आबकारी विभाग के मुताबिक, इस मामले में अब तक 175 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

नई दिल्‍ली: उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के लोगों पर जहरीली शराब का कहर इस प्रकार टूटा है कि मौत का आंकड़ा थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। मृतकों की संख्या 90 से ऊपर पहुंच गई है। सहारनपुर में 46, रुड़की में 32, कुशीनगर 10 मेरठ में 23 लोगों की मौत हो चुकी है। दोनों राज्य सरकार अब ताबड़तोड़ कार्रवाई में लगी हुई हैं।  यूपी और उत्तराखंड में करीब 33 एफआईआर दर्ज हो चुकी हैं.liquor

उत्तर प्रदेश में 297 मामले दर्ज कर अब तक 175 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। आबकारी विभाग के अनुसार, सहारनपुर में लगभग 10 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मामले में सख्त कार्रवाई का आदेश दिया है। सरकार जहरीली शराब बनाने और बेचने वालों पर राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (NSA) लगाने की तैयारी कर रही है।

लगभग 250 लीटर कच्ची शराब और 60 लीटर अंग्रेजी शराब जो चोरी की गई थी, बरामद की गई है। वहीं उत्तराखंड में 31 शराब कारोबारियों को गिरफ्तार किया गया है। एक अधिकारी ने बताया कि उनके पास से 509 क्वाटर देशी शराब और 91 लीटर कच्ची शराब जब्त की गई है।

उत्तराखंड सरकार ने रुड़की क्षेत्र के आबकारी निरीक्षक सहित आबकारी विभाग के 13 कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है। आबकारी विभाग के प्रवर्तन विंग के उच्च अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया है। मजिस्ट्रियल जांच शुरू कर दी गई है। यूपी में बांदा सहित राज्य के विभिन्न हिस्सों में छापेमारी की गई, जहां से भारी मात्रा में अवैध शराब को जब्त किया गया। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उन लोगों के परिजनों को 2-2 लाख रुपए का मुआवजा देने की घोषणा की, जिनकी मौत शराब पीने के बाद हुई और 50,000 रुपए उन्हें, जिनका इलाज चल रहा है।

दरअसल, उत्तराखंड के हरिद्वार में एक घर में तेरहवीं संस्कार आयोजित हुआ था, जिसमें सहारनपुर के कुछ गांवों से लोग गए थे। भोज में लोगों ने शराब पी थी। जहरीली शराब के सेवन से रात में ही लोगों का स्वास्थ्य बिगड़ने लगा था लेकिन रात में मौसम खराब होने की वजह से प्राथमिक उपचार नहीं हो सका जिससे यह दुर्भाग्यपूर्ण घटना हुई। उत्तर प्रदेश पुलिस ने बताया कि गांव का एक निवासी तेरहवीं पर शराब पिलाने के लिए 30 पाउच शराब संभवत: उत्तराखंड से लाया था. इस मामले में अभी और जानकारी आनी बाकी है और तफ्तीश जारी है.

दोनों राज्यों की सरकारों ने प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों को लापरवाही बरतने के लिए निलंबित कर दिया है और मामले की जांच के आदेश दिए हैं. दोनों प्रशासनों ने मृतकों के परिवारों को दो-दो लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की है. इससे पहले सहारनपुर के जिला मजिस्ट्रेट आलोक पांडेय ने कहा कि उनके जिले के नांगल और आसपास के गांवों के निवासी गुरुवार को बालूपुर में शराब पीकर आने के बाद बीमार पड़ गए. शुक्रवार तक हरिद्वार में 16 लोगों की मौत हो गई थी और सहारनपुर में 18 और मौतें हुईं थीं.

एक अन्य घटना में इसी हफ्ते पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में कथित रूप से जहरीली शराब पीने से 11 लोगों की मौत हुई. उत्तर प्रदेश सरकार के अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कुशीनगर और सहारनपुर जिलों के जिला आबकारी अधिकारियों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई करने का आदेश दिया है. उत्तराखंड में आबकारी विभाग के 13 अधिकारियों और चार पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है. दोनों राज्यों में जहरीली शराब की बिक्री पर रोक लगाने के लिए अभियान चलाया गया है.

Web Title : 90 people die from poisonous liquor in UP and Uttarakhand