नागौर में नकल गिरोह के सरगना कोचिंग संचालक सहित एक यूडीसी गिरफ्तार, अभ्यर्थियों को कर रहे थे गुमराह

नागौर: आरपीएससी की ग्रेड सैकंड शिक्षक भर्ती में नकल करवाने के लिए पेपर बेचने के सरगना सहित आरपीएससी के एक यूडीसी को गिरफ्तार किया गया है। सोमवार तक इस मामले से जुड़े 3 आरोपियों को अन्य जगहों से पकड़ा जा चुका है। पुलिस की पकड़ में आए मुख्य आरोपी कोंचिग संचालक है वहीं एक आरपीएससी का यूडीसी है। पुलिस को इनके पास से पुलिस को दस्तावेजए मार्क शीटें और परीक्षा से संबंधित दस्तावेज मिले है। इन आरोपियों ने अभ्यर्थियों को परीक्षा पेपर बेचने का षड़यंत्र रचा था। जबकि इनके पास परीक्षा पेपर था ही नहीं। ऐसे में अभ्यर्थियों को गुमराह करके उनसे आरोपी बड़ी राशि ऐंठने में थे।

अजमेर रेंज आईजी बीजू जॉर्ज जोसेफ के निर्देश पर रविवार से ही कार्रवाई आरंभ हो गई। जिसके बाद आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। कोतवाल श्रवणदास संत ने बताया कि मुख्य आरोपी प्रेमसुख निवासी पदम कॉलोनी डेह रोड है। वह विजय वगभ चौराहा के पास मैराथन कोचिंग क्लासेस सेंटर चलाता है। खास बात यह है कि आरोपी प्रेमसुख के घर में ही एक थैली में दस्तावेज टंगे मिले। इन आरोपियों के 16 जिलों में लोगों से संपर्क थे। कोतवाल ने बताया कि प्रमुख सरगना प्रेमसुख की गिरफ्तारी शहर से की गई है। इनके साथ ही जो आरोपी है उनसे संबंधित थाना पुलिस ने गिरफ्तारी की है। अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए टीमें दबिश दे रही है।

बताया जा रहा हैं कि पकड़े गए आरोपी पेपर बेचने की फिराक में कई लोगों को बेवकूफ बना चुके थे। इनकी संख्या 100 के आस पास होने की संभावना है। पुलिस ने सबसे पहले नागौर में ही कार्रवाई की। इसके बाद जैसे जैसे नाम सामने आते गए तो मौलासर में तड़के कार्रवाई कर आरोपी लक्ष्मणराम को हिरासत में लिया गया। वह मौलासर में स्टूडियो संचालक है। लक्ष्मणराम को तो पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद रात भर से गिरफ्तारियां आरंभ हो गई। प्राथमिक पूछताछ में प्रेमसुख ने बताया कि उसके मैराथन कोचिंग क्लासेज में उसके परिचित आरपीएससी के यूडीसी प्रकाश पारचा है। पुलिस को प्रेमसुख ने पारचा के मोबाइल नंबर भी दिए। पुलिस ने पारचा को गिरफ्तार कर पूछताछ शुरु कर दी। इसमें पेपर आउट करने वाले बड़े गिरोह के सामने आने की संभावना है।

Web Title : A UDC including Nagpal gang-rider coaching operator arrested in Nagaur