एक्ट्रेस अनुष्का शर्मा को हुई ये गंभीर बीमारी, फिर भी कर रही हैं काम

बॉलीवुड अभिनेत्री अनुष्का शर्मा ने आज फिल्मों में जो मुकाम हासिल किया है वो खुद के दम पर हासिल किया है. आज के समय में अनुष्का शर्मा की गिनती बॉलीवुड की दिग्गज अभिनेत्रियों में की जाती है. इसी वजह से बॉलीवुड का हर निर्माता-निर्देशक उनके साथ काम करने की चाहत रखता है. देश और विदेश में अनुष्का शर्मा के बहुत से फैंस है, लेकिन अब अनुष्का के फैंस के लिए एक बुरी खबर आई है. à¤‡à¤¨ दिनों अनुष्का शर्मा इस बीमारी से हो रही परेशान, डॉक्टर ने बताया चार सप्ताह का आराम

मुंबई। बॉलीवुड हसीना और टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली की धर्मपत्नी अनुष्का शर्मा काफी वक्त से अपनी अपकमिंग फिल्म सुई धागा का प्रमोशन कर रही अनुष्का इन दिनों बल्जिंग डिस्क की बीमारी से जूझ रही है। ब्लजिंग डिस्क रीढ़ की हड्डी से जुड़ी बीमारी है। डॉक्टरों ने अनुष्का को रेस्ट करने की सलाह दी है लेकिन इसके बावजूद अनुष्का रेस्ट नहीं कर रही हैं और प्रमोशन को लेकर उनका सफर लगातार जारी है।फिल्म सुई धागा के प्रमोशन में जुटी अनुष्का शर्मा को डॉक्टर्स ने आराम करने का फरमान सुना दिया है क्योंकि इन दिनों वह बल्जिंग डिस्क नाम की बीमारी से जूझ रही है.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक अनुष्का को बल्‍जिंग डिस्‍क की बीमारी इंटेंसिव फिजियोथैरेपी की वजह से उठानी पड़ रही है, इस रोग में बॉडी के प्रभावित हिस्से में काफी दर्द होता है और ये दर्द तब और बढ़ जाता है जब इंसान एक जगह काफी देर के लिए या बैठा रहता है या फिर काफी देर तक खड़ा रहता है।

अपने काम के लिए अनुष्का ने खुद को किया इग्नोर
अनुष्का आजकल इसी दर्द से गुजर रही है क्योंकि प्रमोशन के लिए उन्हें घंटों गाड़ी में बैठकर सफर करना पड़ रहा है या किसी इवेंट या मॉल में खड़े रहना पड़ रहा है, फिलहाल अनुष्का दवाइयों का सेवन कर रही हैं। आपको बता दें कि फिल्म ‘सुई धागा: मेड इन इंडिया’ एक गरीब मियां-बीवी की कहानी है। वरुण धवन, अनुष्का शर्मा की अदाकारी से सजी फिल्म का निर्देशन शरत कटार‍िया ने किया है। फिल्म में वरुण और अनुष्का पति-पत्नी बने हैं। मनीष शर्मा ने इस फिल्म को प्रोड्यूस किया है, फिल्म अनु मल‍िक के संगीत की धुनों से सजी है। फिल्म सुई धागा 28 सितंबर को रिलीज हो रही है।

क्‍या होती है बल्‍जिंग डिस्‍क?
बल्‍जिंग डिस्‍क को हर्नियेटेड डिस्क के नाम से भी जाना जाता है, जो इन दिनों एक सामान्‍य बीमारी बन चुकी है। अगर आपको एक जगह लगातार बैठने की लत है तो आप भी इस बीमारी के चपेट में आ सकते हैं। ये रीढ़ की हड्डियों से शुरु होती है और धीरे-धीरे करके शरीर के बाकी अंगों तक पहुंच जाती है। इस वजह से पूरे शरीर में दर्द होने लगता है। हर साल दुनियाभर में बल्जिंग डिस्क की बीमारी से लाखों लोग जूझते हैं। इस बीमारी से पीड़ित आयु वर्ग 30 से 50 वर्ष के बीच होती है। यदि इसका इलाज नहीं किया गया तो मूत्राशय या आंत रोग हो सकता है।क्‍या होती है बल्‍जिंग डिस्‍क?बल्जिंग डिस्क के लक्षण: हाथ पैर या गर्दन में दर्द
इस बीमारी की वजह से आपके पिछले भाग के निचले हिस्‍सें में काफी दर्द महसूस होता है। खासकर नितंबों और जांघों में सबसे ज्‍यादा दर्द महसूस होगा। पैर के कुछ पर भी आपको दर्द महसूस हो सकता है। यदि आपको बल्‍जिंग डिस्‍क की शिकायत गर्दन में है, तो इसका असर कंधे और हाथ तक भी देखने को मिलता है। बल्‍जिंग डिस्‍क का दर्द खांसने और छींकने पर भी बढ़ जाता है।बल्जिंग डिस्क के लक्षण:झनझनाहट महसूस होना
जिन लोगों में बल्जिंग डिस्क की समस्‍या होती है उन्‍हें अक्‍सर दर्द के साथ-साथ झुनझुनाहट का भी अनुभव होने लगता है। इसके अलावा कभी-कभी हाथ-पांव में भी सुन्‍नाहट सी लगने लगती है।मांसपेशियों में दर्द

Web Title : Acting Anushka Sharma is doing this critical illness, but still doing work