CBI चीफ के पद से हटाए जाने के 20 घंटे बाद आलोक वर्मा ने छोड़ी नौकरी, DG फायर सर्विस का प्रभार लेने से इनकार

हाई पावर्ड सिलेक्शन कमिटी द्वारा सीबीआई डायरेक्टर पद से हटाए जाने और तबादला किए जाने के एक दिन बाद आलोक वर्मा ने सरकार को इस्तीफा दिया है। वर्मा का तबादला करते हुए उन्हें फायर सर्विसेज का डायरेक्टर बनाया गया था लेकिन पहले तो उन्होंने चार्ज लेने से इनकार किया और बाद में इस्तीफा ही दे दिया।

नई दिल्ली. सीबीआई निदेशक पद से हटाए गए आलोक वर्मा ने डीजी फायर सर्विसेज का पदभार ग्रहण करने से इन्‍कार कर दिया है. साथ ही नाैकरी से इस्‍तीफा देते हुए उन्‍होंने कहा, इस पूरे मामले में प्राकृतिक न्‍याय के सिद्धांत को कुचल दिया गया है. ऐसा इसलिए किया गया, ताकि वैधानिक रूप से निदेशक पद पर मौजूद व्‍यक्‍ति को हटाया जा सके. उन्‍होंने अपना इस्‍तीफा गृह मंत्रालय को भेज दिया है. दूसरी ओर, आलोक वर्मा को सीबीआई निदेशक पद से हटाए जाने के बाद देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई उनके खिलाफ जांच कर सकती है.आलोक वर्मा (फाइल फोटो) सरकार के अधिकारियों ने यह जानकारी दी है कि सीबीआई के निदेशक पद से हटाए गए आलोक वर्मा ने सेवा से इस्तीफा दे दिया है. इससे पहले आलोक वर्मा ने फायर सर्विस विभाग में डीजी पद का प्रभार लेने से इनकार कर दिया था. आलोक वर्मा ने कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग के सचिव को भेजे त्यागपत्र में लिखा है कि इस समय सामूहिक रूप से आत्मचिंतन करने की जरूरत है. वर्मा ने आगे लिखा कि उन्हें 31 जनवरी 2019 तक केवल सीबीआई के निदेशक रूप में सरकार को अपनी सेवा देनी थी. क्योंकि यह एक निश्चित कार्यकाल था. अब वह सीबीआई के निदेशक नहीं हैं. अब उनकी उम्र फायर सर्विस, नागरिक रक्षा और होमगार्ड के डीजी पद के लिए अधिकतम सीमा को पार कर गई है. ऐसे में आज से ही उन्हें सेवा से मुक्त माना जा सकता है.CBI निदेशक पद से हटाए गए आलोक वर्मा ने दिया इस्तीफा, DG फायर सर्विस का प्रभार लेने से इनकार

मीडिया को दिए बयान में आलोक वर्मा ने कहा है कि उनके साथ इंसाफ नहीं हुआ. सीबीआई के निदेशक पद से उनको हटाने में प्राकृतिक न्याय के सिद्धांत का उल्लंघन हुआ और पूरी प्रक्रिया नियमों को ताक पर रखकर की गई.CBI Case, Alok Verma, Ex-Director, Transfer, Order, Reverse, M Nageshwar Rao, Interim Director, CBI Sources, India News, National News, Hindi News

इससे पहले गुरुवार की रात CBI के निदेशक पद से हटाए जाने के बाद आईपीएस आलोक वर्मा ने कहा है कि उन्होंने देश की इस सबसे बड़ी जांच एजेंसी की साख बनाए रखने की कोशिश की. वर्मा ने अपने सफाई में कहा कि उन्हें झूठे आरोपों के आधार पर निदेशक पद से हटाया गया है. वह चाहते हैं कि सीबीआई बिना किसी बाहरी दबाव के काम करे. लेकिन मौजूदा समय में CBI की साख को बर्बाद करने की कोशिश की जा रही है. गौरतलब है कि बीती रात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली उच्च अधिकार प्राप्त चयन समिति ने 2-1 के बहुमत से फैसला लेते हुए आलोक वर्मा को पद से हटा दिया था. वर्मा पर CVC की रिपोर्ट के आधार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए थे.

अरुणाचल प्रदेश-गोवा-मिजोरम और केंद्र शासित प्रदेश काडर से 1979 बैच के IPS ऑफिसर आलोक वर्मा सीबीआई के 27वें डायरेक्टर थे। वह दिल्ली पुलिस के कमिश्नर भी रह चुके थे। 31 जनवरी को वह रिटायर होने वाले थे। वर्मा 1 फरवरी 2017 को सीबीआई डायरेक्टर बने थे। उनका कार्यकाल काफी विवादित रहा और आखिरकार भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर उन्हें 2 साल के तय कार्यकाल से पहले ही हटा दिया गया। à¤¸à¥€à¤¬à¥€à¤†à¤ˆ चीफ के पद से हटाए जाने के बाद आलोक वर्मा ने इस्‍तीफा दियावर्मा और सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना दोनों ने एक दूसरे पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे। बाद में अस्थाना के खिलाफ FIR भी दर्ज हुई। यह विवाद इतना बढ़ा कि सरकार ने दोनों अफसरों को जबरन छुट्टी पर भेज दिया। इसके खिलाफ वर्मा सुप्रीम कोर्ट पहुंचे और 8 जनवरी को कोर्ट ने उन्हें डायरेक्टर पद पर बहाल तो कर दिया लेकिन सिलेक्शन कमिटी को 1 हफ्ते के भीतर उन पर लगे आरोपों पर फैसले का भी निर्देश दिया। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुआई और कांग्रेस सांसद मल्लिकार्जुन खड़गे व सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस सीकरी की सदस्यता वाले पैनल ने वर्मा को डायरेक्टर पद से हटा दिया। पैनल ने उनका तबादला कर उन्हें फायर सर्विसेज का डायरेक्टर जनरल बनाए जाने का आदेश दिया। बता दें कि सीबीआई डायरेक्टर की नियुक्ति प्रधानमंत्री, लोकसभा में विपक्ष के नेता और सीजेआई की हाई-पावर्ड कमिटी करती है। वर्मा वाले मामले में सीजेआई गोगोई की बेंच ने फैसला दिया था, इस वजह से सीजेआई ने पैनल से खुद को हटाकर अपनी जगह जस्टिस ए. के. सीकरी को नामित किया था।

Web Title : Alok Verma left his job after 20 hours after being removed from the post of Chief of the CBI