AUS vs IND: कप्तान विराट कोहली ने खोला राज, कहा- 2011 से पीठ दर्द से परेशान हूं

भारतीय कप्तान विराट कोहली अपनी शानदार फिटनेस को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहते हैं, लेकिन उन्होंने बताया है कि पीठ दर्द की परेशानी उन्हें वर्ष 2011 से ही है। इसके साथ कोहली ने यह भी खुलासा किया कि अपनी इस चोट का असर उन्होंने कभी भी अपने करियर पर नहीं पड़ने दिया।

नई दिल्ली: भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने पीठ दर्द के बारे में बड़ा खुलासा किया है। कोहली ने खुलासा किया कि उन्हें भारतीय टीम में शुरुआती दिनों में 2011 से ही डिस्क की समस्या रही है। उन्होंने कहा, ‘जहां तक मेरी फिटनेस की समस्या है तो मुझे 2011 से डिस्क संबंधित परेशानियां रही हैं, इसमें कुछ नया नहीं है, लेकिन मैं पिछले कुछ वर्षों में शारीरिक प्रयासों से इससे निपटने में सफल रहा हूं। अगर आपको डिस्क संबंधित परेशानियां होती हैं तो आपको इनसे इसी तरह निपटना होगा इसलिए मैं इसके बारे में ज्यादा चिंता नहीं करता।’

कोहली ने यह बता उस वक्त कही, जब वह ऑफ स्पिनर आर. अश्विन की चोट पर चर्चा कर रहे थे। अश्विन की चोट से चर्चा कोहली के पीठ दर्द तक पहुंच गई जो पिछले कुछ समय से इससे जूझ रहे हैं। कोहली मेलबर्न टेस्ट के दौरान दर्द में थे और क्षेत्ररक्षण करते हुए भी वह अपनी कमर पर थपथपाते हुए देखे गए, लेकिन अब उन्होंने इससे निपटना सीख लिया है। उन्होंने कहा, ‘आपको इससे शारीरिक रूप से निपटना होता है और चोट को दूर रखना होता है। अब मैं ऐसा करने में सफल रहा हूं और मुझे पूरा भरोसा है कि मैं इससे निपटने के लिए ज्यादा विकल्प ढूंढ सकता हूं और पूरी तरह फिट रह सकता हूं।’ कोहली ने कहा, ‘मनुष्यों के साथ यह संभव नहीं है कि उन्हें चोट नहीं लगे और मुझे लगता है कि यहां वहां कुछ मामूली चोटों से कोई परेशानी नहीं है। बस आपको इनसे अच्छी तरह निपटना आना चाहिए।’

कोहली ने कहा कि वह इस समस्या को लेकर परेशान नहीं हैं और उससे निपटने के लिए और भी कई विकल्प तलाश लेंगे। उन्होंने कहा, ‘जहां तक मेरी फिटनेस की समस्या है तो मुझे 2011 से डिस्क संबंधित परेशानियां रही हैं, इसमें कुछ नया नहीं है। अगर आपको डिस्क संबंधित परेशानियां होती हैं तो आपको इनसे इसी तरह निपटना होगा इसलिये मैं इसके बारे में ज्यादा चिंता नहीं करता।’

कोहली 2018 में भी दुनिया में सर्वाधिक इंटरनेशनल रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे और ये लगातार तीसरे साल था जब कोहली दुनिया में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे। उनकी नजरें सिडनी में जीत के साथ ही सौरव गांगुली का रिकॉर्ड तोड़कर विदेश में सबसे ज्यादा टेस्ट मैच जीतने वाला कप्तान बनने पर होंगी।

Web Title : AUS vs IND: Captain Virat Kohli opens the door