जेल से देर रात रिहा हुआ भीम आर्मी का चीफ चंद्रशेखर ‘रावण’, बोले- भाजपा को हराएंगे

नई दिल्ली: भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर उर्फ रावण को जेल से रिहा कर दिया गया है। वह सहारनपुर की जेल में जातीय दंगा फैलाने के आरोप में बंद था। उसे राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासूका) के तहत जेल भेजा गया था। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने चंद्रशेखर को रिहा करने का आदेश दिया। उसके बाद उसे गुरुवार की रात करीब ढ़ाई बजे रिहा किया गया।

जेल से निकलने के तुरंत बाद चंद्रशेखर ने लोगों को संबोधित किया और बीजेपी पर जमकर हमला बोला। उसने कहा, 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी हराना है। भीम आर्मी चीफ ने कहा, सुप्रीम कोर्ट द्वारा लगाए जा रहे फटकार से सरकार इतनी डर गई थी कि उसने खुद को बचाने के लिए जल्दी रिहा करने का आदेश दे दिया। मुझे पूरा यकीन है वे हमारे खिलाफ 10 दिनों के भीतर कोई न कोई आरोप लगाकर केस दर्ज करेंगे। मैं अपने लोगों से कहूंगा 2019 में बीजेपी को सत्ता बहार करें।

गौर हो कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने भीम आर्मी चीफ को लेकर बड़ा फैसला लिया। उसे समय से पहले रिहा करने का आदेश दे दिया। रावण को पहले एक नवंबर को रिहा किया जाना था। यूपी सरकार द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया गया था कि चंद्रशेखर उर्फ रावण की माता के प्रत्यावेदन एवं वर्तमान परिस्थितियों के दृष्टिगत उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सहानुभूति पूर्वक समय पूर्व रिहाई का निर्णय लिया गया है।

गौर हो कि भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर ‘रावण’ को 2017 के सहारनपुर दंगों में कथित तौर पर शामिल होने के आरोप में जून 2017 में गिरफ्तार किया गया था। मई 2017 में सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव में राजपूतों और दलितों के बीच हुए संघर्ष में कथित तौर पर दलितों के घर जला दिए गए थे। इस दौरान एक शख्स की मौत हो गई थी।  चंद्रशेखर की रिहाई को लेकर भीम आर्मी के सदस्य समय-समय पर विरोध प्रदर्शन भी करते रहे हैं। कुछ समय पहले भीम आर्मी ने जंतर मंतर पर भी प्रदर्शन किया था।

चंद्रशेखर पर जातीय दंगे फैलाने का आरोप था बाद में उन्हें इलाहाबाद हाइकोर्ट से जमानत मिल गई थी। बाद में राज्य सरकार ने उन पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) लगा दिया गया। रासुका के तह सुरक्षा व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए 12 महीने तक प्रशासनिक हिरासत में लेने की इजाजत होती है। रासुका के खिलाफ भीम आर्मी ने इलाहाबाद हाइकोर्ट में भी अपील की थी जो खारिज हो गई थी।

Web Title : bhima-army-chief-chandrasekhar-who-was-released-from-jail-on-late-night