CBI दफ्तर की लड़ाई अब अदालत पहुंची, अस्थाना ने FIR रद्द करने की मांग की

नई दिल्ली: देश की प्रमुख जांच एजेंसी CBI के अंदर चल रहा आंतरिक कलह की आहट अब अदालत तक पहुंच गई है। मंगलवार को सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना ने अपने खिलाफ एफआईआर दर्ज किए जाने के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट का रुख किया। उन्होंने याचिका दाखिल कर CBI द्वारा दर्ज की गई एफआईआर रद्द करने की मांग की है। घूसखोरी के मामले में अस्थाना ने हाई कोर्ट से अपने खिलाफ कोई बलपूर्वक कार्रवाई ना करने का निर्देश दिए जाने की भी मांग की है। उधर, सीबीआई ने विशेष निदेशक राकेश अस्थाना की कथित संलिप्तता वाले रिश्वतखोरी मामले के संबंध में एजेंसी के DSP देवेंद्र कुमार को दिल्ली की एक अदालत में पेश किया। सीबीआई ने देवेंद्र कुमार को हिरासत में देने का अनुरोध करते हुए दलील दी कि उनके कार्यालय एवं आवास पर छापे में दस्तावेज तथा सबूत मिले हैं।

10 दिन की रिमांड मांगी
सीबीआई ने DSP देवेंद्र कुमार की 10 दिन की रिमांड मांगी है। इस पर देवेंद्र कुमार के वकील ने दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में जमानत अर्जी दाखिल की है। आपको बता दें कि केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) के टॉप बॉस आलोक वर्मा और स्पेशल डायरेक्टर (एजेंसी में नंबर 2) राकेश अस्थाना के बीच खींचतान काफी बढ़ गई है। एजेंसी ने अपने ही स्पेशल डायरेक्टर अस्थाना पर केस दर्ज किया है। एफआईआर में उन पर मांस कारोबारी मोइन कुरैशी से 3 करोड़ रुपये की रिश्वत लेने का आरोप लगाया गया है। सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद इस मामले में दखल दिया। डायरेक्टर वर्मा की पीएम से मुलाकात हुई और एक घंटे के भीतर ही केस से जुड़े डीएसपी रैंक के अधिकारी देवेंद्र कुमार गिरफ्तार हो गए। कुछ देर बाद तमाम अधिकारियों के ठिकानों पर सीबीआई ने छापे भी मारे।

गौरतलब है कि अधिकारियों ने रविवार को कहा था कि एक अप्रत्याशित कदम उठाते हुए एजेंसी ने एक बिचौलिए से कथित तौर पर रिश्वत लेने के लिए अपने विशेष निदेशक पर मुकदमा दर्ज किया। अस्थाना पर आरोप हैं कि मीट निर्यातक मोइन कुरैशी की संलिप्तता वाले एक मामले की जांच में एक कारोबारी को राहत देने के मकसद से यह रिश्वत ली गई। कारोबारी के खिलाफ जांच अस्थाना ही कर रहे थे। कुरैशी धनशोधन और भ्रष्टाचार के कई मामलों का सामना कर रहे हैं। सीबीआई का आरोप है कि दिसंबर 2017 और अक्तूबर 2018 के बीच कम से कम पांच बार रिश्वत ली गई थी। डीएसपी कुमार की पटियाला हाउस कोर्ट में पेशी हुई। सीबीआई ने इस संबंध में दस्तावेज पेश किए और कुमार के लिए 9 दिनों की हिरासत की मांग भी की।

Web Title : CBI court's battle now reached court