CBI की राजस्थान में हो सकती नो एंट्री, आलोक वर्मा को हटाने के बाद कांग्रेस बना सकती है बड़ा मुद्दा

जयपुर: केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के डायरेक्टर आलोक वर्मा को एक बार फिर से उनके पद से हटाए जाने को लेकर कांग्रेस बड़ा मुद्दा बना सकती है। इसके साथ ही इस मामले को लेकर अब सरकार CBI को दी गई सामान्य सहमति वापस ले सकती है। कांग्रेस के राज्यों द्वारा अपनी सहमति वापस ली जा सकती है और ऐसे में राजस्थान में CBI की नो एंट्री हो सकती है।

बता दे कि गुरुवार को छत्तीसगढ़ सरकार की ओर से केंद्र सरकार को एक पत्र लिखा गया है जिसमे प्रदेश में सीबीआई छापेमारी और जांच के लिए दी जाने वाली सामान्य रजामंदी को वापस ले लिया गया है। प्रदेश सरकार की ओर से वर्ष 2001 में यह रजामंदी दी गई थी, लेकिन कांग्रेस सरकार ने अब इसे वापस ले लिया है।

गौरतलब है कि कल देर शाम को सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा उनके काम पर लौटने के 24 घंटों बाद ही पद से हटा दिया गया था। साथ ही उनका तबादला भी किया गया है, जिसमें उन्हें अब फायर सेफ्टी विभाग में डीजी बनाया गया है। इसको लेकर अब कांग्रेस बड़ा मुद्दा बना सकती है और कांग्रेस के राज्यों द्वारा अपनी सहमति वापस ली जा सकती है। बता दें कि पश्चिम बंगाल, आंध्रप्रदेश पहले ही सामान्य सहमति वापस ले चुके है और अब छत्तीसगढ़ ने भी केंद्र को सामान्य सहमति लेने का पत्र लिखा है।

Web Title : CBI may not have entry in Rajasthan