चक्रवाती तूफान ‘तितली’ का रेड अलर्ट, अगले तीन दिन में हो सकती है भारी बारिश

भुवनेश्वर: चक्रवाती तूफान ‘तितली’ कहर से बचने के लिए मौसम विभाग ने एक बार फिर बुधवार को चेतावनी जारी की। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार ओडिशा में चक्रवाती तूफान के साथ भारी बारिश की आशंका बढ़ गई है। बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र धीरे-धीरे चक्रवात का रूप धारण करने लगा है, जिसका नाम ‘तितली’ रखा गया है। ओडिशा के कुछ स्थानों पर अत्यंत भारी बारिश का पूर्वानुमान व्यक्त करते हुए राज्य में अगले 24 घंटे तक रेड अलर्ट भी जारी कर दिया है। मौसम विभाग ने कहा कि बंगाल की खाड़ी पर चक्रवाती तूफान पिछले 6 घंटे में 8 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से पश्चिम-उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ा। आईएमडी ने बुधवार और गुरुवार को ओडिशा के कई स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश तथा कुछ स्थानों पर अत्यंत भारी बारिश का पूर्वानुमान व्यक्त करते हुए राज्य में रेड अलर्ट भी जारी किया था।

मौसम विभाग ने कहा कि बंगाल की खाड़ी पर चक्रवाती तूफान पिछले छह घंटे में आठ किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से पश्चिम-उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ा। आईएमडी के मुताबिक तितली ओडिशा में गोपालपुर से करीब 530 किलोमीटर दक्षिण पूर्व में और आंध्र प्रदेश में कलिंगपट्नम से 480 किलोमीटर पूर्व- दक्षिण पूर्व में है।

भुवनेश्वर में मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक एच आर विश्वास ने कहा था, ‘अगले 24 घंटे में यह तीव्र चक्रवाती तूफान में बदल सकता है और कुछ समय के लिए पश्चिम-उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ सकता है। जिसके बाद यह उत्तर पश्चिम की ओर बढ़कर 11 अक्टूबर को सुबह के आसपास गोपालपुर तथा कलिंगपट्नम के बीच ओडिशा और उससे लगे उत्तरी आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों को पार कर सकता है।’ उन्होंने कहा कि इसके बाद यह उत्तर पूर्व की ओर जा सकता है और तटीय ओडिशा से पश्चिम बंगाल के गंगा क्षेत्र से गुजरते हुए धीरे-धीरे कमजोर हो सकता है।

इसके प्रभाव में दक्षिण तटीय ओडिशा के गजपति, गंजाम, पुरी और जगतसिंहपुर जिलों के कुछ स्थानों पर बुधवार से भारी बारिश हो सकती है। इनके अलावा बुधवार और गुरुवार से गंजाम, गजपति, पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, खुर्दा, नयागढ़, कटक, जाजपुर, भद्रक और बालासोर जिलों में भारी से बहुत भारी बारिश हो सकती है। आईएमडी ने 11 अक्टूबर से कंधमाल, बौध तथा ढेंकानाल जिले में भी भारी से अत्यंत भारी बारिश का पूर्वानुमान व्यक्त किया है। बारिश के साथ 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं। ओडिशा सरकार को भी संभावित बाढ़ के हालात के मद्देनजर सतर्क कर दिया गया है।

राहुल गांधी को उम्मीद : आंध्र प्रदेश और ओड़िशा तितली चक्रवात से निपटने को तैयार

उधर, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को आशा प्रकट की कि ओड़िशा और आंध्र प्रदेश की सरकारें अपने-अपने राज्यों के तटीय क्षेत्रों की ओर बढ़ रहे तितली चक्रवात से उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए कमर कर चुकी होंगी। उन्होंने फेसबुक पर लिखा, ‘चक्रवात ओड़िशा और आंध्र प्रदेश की ओर बढ़ रहा है। यह सावधानी बरतने का समय है।’ उन्होंने लिखा, ‘मैं आशा करता हूं कि राज्य सरकारों और प्रशासन ने स्थिति से निपटने के लिए पूरी तैयारी कर ली होगी। कांग्रेस कार्यकर्ताओं से जरूरत की इस घड़ी में देशवासियों के साथ खड़ा रहने और मुश्किलों का डटकर सामना करने का अनुरोध है।’

Web Title : Cyclonic storm 'butterfly' red alert