सेंट्रल जेल में महात्मा गांधी की प्रतिमा पर हुआ दुग्धाभिषेक

जोधपुर। गांधी नेहरू विचार मंत्र के तत्वावधान में गुरुवार को सेंट्रल जेल में क्रांति दिवस मनाया गया। कार्यक्रम के दौरान सैनाचार्य अचलानन्द गिरी एवं रामस्नेेही संत हरिराम शास्त्री महाराज के सान्निध्य में महात्मा गांधी की प्रतिमा पर दुग्धाभिषेक व गऊघाट को गंगाजलभिषेक किया गया।

गांधी नेहरू विचार मंत्र के संस्थापक अध्यक्ष एवं कांग्रेस कमेटी के पूर्व संयोजक सत्यनारायण गौड़ ने बताया कि गुरुवार को सुबह आयोजित कार्यक्रम में बंदियों को आत्मचिन्तन के लिए सत्य, अहिंसा व शान्ति का पाठ पठाया गया। सैनाचार्य अचलानन्द गिरी एवं रामस्नेेही संत हरिराम शास्त्री महाराज ने बंदियों को अपराध का रास्ता छोडक़र सद्गुण अपनाने और सच्चाई के पथ परन चलने के लिए प्रेरित किया।

कार्यक्रम में पूर्व महापौर डॉ. ओमकुमारी गहलोत और कांग्रेसी नेता इकबाल खान भी उपस्थित थे। अतिथियों ने यहां महात्मा गांधी की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की। उन्होंने बताया कि 9 अगस्त 1942 को ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ अंग्रेज भारत छोड़ो आंदोलन के तहत स्वतन्त्रता संग्राम के महानायक महात्मा गांधी के नेतृत्व में स्वतन्त्रता सैनानियों ने सामूहिक उपवास कर गिरफ्तारी दी जिससे आजादी की राह आसान हुई। तब से 9 अगस्त को शान्ति दिवस के रूप में मनाया जाता है।

Web Title : Dahodbhishak on the statue of Mahatma Gandhi in Central Jail