ड्यूटी करवा ली होमगार्ड को मेहनताना देना भूले, इन पडौसी राज्यों की सरकारों से 6.16 करोड़ बकाया

जयपुर। चुनाव के समय कानून व्यवस्था की पालना व सुरक्षा के लिए पडौसी राज्यों द्वारा राजस्थान से मांगे गए होमगार्ड को ड्यूटी का मेहनताना नहीं मिला है। पंजाब, कर्नाटक, जम्मू.कश्मीर व उत्तर प्रदेश सरकार पर राज्य का करीब छह करोड़ रुपए बकाया है। गुरूवार को इस संबंध में गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों को होमगार्ड का बकाया भुगतान करने के लिए पत्र लिखा है।

गृह मंत्री गुलाब चंद कटारिया ने बताया कि चुनावों के दौरान ड्यूटी करने वाले पांच राज्यों में होमगार्ड के मानदेय का छह करोड़ 16 लाख रुपए बकाया है। इनमें उत्तर प्रदेश दो करोड़ 83 लाख रुपएए पंजाब में एक करोड़ 10 लाख रुपएए केरल 83 लाख रुपएए जम्मू.कश्मीर में 68 लाख रुपए और कर्नाटक में 66 लाख रुपए बकाया है। होमगार्ड की ड्यूटी के मसल पर कटारिया ने बताया कि कानून.व्यवस्था के प्रकरणों के चलते एसडीओ को फील्ड में जाना होता है। इसलिए उनके साथ एक.एक होमगार्ड जवान लगाने पर निर्णय किया गया है।

हालांकि इससे लिए राजस्व विभाग को एक प्रस्ताव वित्त विभाग को भेजना होगा। वित्त विभाग की मंजूरी के बाद ही अंतिम फैसला होगा। गौरतलब है कि एसडीओ के साथ एक.एक पीएसओ लगाने की मांग लंबे समय से उठ रही है। प्राइवेट सुरक्षा एजेंसियों में होमगार्ड का 25 फीसदी नियोजन होगा.

गृहमंत्री कटारिया ने कहा कि प्राइवेट सुरक्षा एजेंसियों में 25 प्रतिशत होमगार्ड का नियोजन किए जाने का निर्णय पहले किया जा चुका है। लेकिनए एजेंसियां इस पर अमल नहीं कर रही है। एजेंसियों से सख्त हिदायत दी गई है कि होमगार्ड जवानों को कम से कम न्यूनतम मजदूरी ;693ए प्रतिदिनद्ध दी जाए। प्रत्येक होमगार्ड को दिए जाने वाला मानदेय उनके खातों में जमा कराया जाए। इससे निगरानी रहेगी कि उन्हें न्यूनतम मजदूरी के बराबर भी मानदेय दिया जा रहा है अथवा नहीं। आपको बता दे कि प्रदेश में 1600 प्राइवेट सुरक्षा एजेंसिया है।

Web Title : Do not forget to pay duty to Homeguard