गणितज्ञ और दार्शनिक उमर खैय्याम का 971वां जन्मदिन,गूगल डूडल पर दिखेगा फारसी कवि का चित्र

उमर खैय्याम अपनी कविताओं के लिए भी मशहूर रहे हैं। उन्होंने एक हजार से अधिक रुबाइयतें या आयते लिखीं थीं। खैय्याम की रूबाइयत के एक हिस्से को एडवर्ड फिट्जल्ड ने अनुवाद किया, जो उनकी मौत के बाद पश्चिमी देशों में काफी लोकप्रिय हुआ।

गूगल ने शनिवार को फारसी कवि, गणितज्ञ, दार्शनिक और खगोलशास्त्री उमर खैय्याम को उनके जन्मदिन पर डूडल बनाकर याद किया। उनका जन्म 18 मई 1048 को उत्तर पूर्वी ईरान के निशापुर में हुआ था। उनका निधन 04 दिसंबर 1131 को होने के बाद उन्हें खैय्याम गार्डन में दफनाया गया।Related image आज उनका 971वां जन्मदिन है। खैय्याम ने कई उल्लेखनीय गणित और विज्ञान की खोज की। वह पहले ऐसे व्यक्ति हैं, जिन्होंने घन समीकरण को हल करने के लिए सामान्य तरीका निकाला।

Image result for उमर खैय्याम

उन्होंने कोण के विच्छेदन से जुड़ी ज्यामितिय हल भी उपलब्ध कराया। उनकी दूसरी बड़ी उपलब्धि जलाली कैलेंडर भी है, जो सोलर कैलेंडर था। बाद में इसके आधार पर कई कैलेंडर बने। उमर खैय्याम अपनी कविताओं और छंदों के लिए भी मशहूर थे। उन्होंने हजारों रूबाइयां या छंद लिखे।

इतना ही नहीं खोरासान प्रांत के मलिक शाह प्रथम के सलाहकार और दरबार के खगोलशास्त्री के रूप में भी खैय्याम ने काम किया। उन्होंने बीजगणित में भी बड़ा योगदान दिया।

Web Title : rkk