थम गया प्रचार, मतदान 19 को , सभी 543 सीटों के नतीजे 23 मई को

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण में आठ राज्यों की 59 सीटों पर रविवार को मतदान होना है। इसके लिए चुनाव प्रचार शुक्रवार शाम थम गया। पश्चिम बंगाल में हिंसा और अन्य वजहों के चलते गुरूवार रात दस बजे ही प्रचार रोकने के चुनाव आयोग ने आदेश जारी किए थे। अंतिम चरण में उत्तर भारत के हिमाचल प्रदेश और पंजाब से लेकर पश्चिम बंगाल तक में मतदान होना है।

भले ही सीटों के लिहाज से यह राउंड बहुत अहम नहीं है, लेकिन इस चरण में कई हाईप्रोफाइल सीटों पर मुकाबला है। पूर्वी यूपी की वाराणासी, गोरखपुर और गाजीपुर जैसी हाई प्रोफाइल सीटों पर रोचक जंग देने को मिल रही है, दूसरी तरफ अलावा पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी का गढ़ कहे जाने वाले इलाके की 9 लोकसभा सीटों पर मतदान होना है। यही वजह है कि चुनाव के आखिरी दौर में पूर्वांचल, बिहार से लेकर बंगाल तक में सरगर्मी बढ़ी है।
उत्तरप्रदेश में मोदी-योगी का जोर
आखिरी राउंड में उत्तर प्रदेश के पूर्वी हिस्से की जिन 13 सीटों पर मतदान होना है। उनमें से सभी सीटें 2014 के चुनाव में बीजेपी के खाते में आई थीं। हालांकि गोरखपुर उपचुनाव में बीजेपी के हाथ से फिसल गया था। ऐसे में इस राउंड में एसपी-बीएसपी महागठबंधन के सामने दोबारा अपनी पकड़ मजबूत करने की चुनौती है तो दूसरी तरफ बीजेपी के लिए अपना वर्चस्व बरकरार रखना मुश्किल होगा। पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में भले ही कुछ शांति दिख रही है, लेकिन अंदरखाने की इस बात की चचार्एं भी जोरों पर हैं कि महागठबंधन और कांग्रेस मिलीभगत से आगे बढ़ सकती हैं।
कौन जीतेगा बंगाल की आखिरी लड़ाई?
पश्चिम बंगाल में आखिरी राउंड की वोटिंग में काफी उबाल देखने को मिला है। बीजेपी चीफ अमित शाह की रैली के दौरान हिंसा के चलते आयोग ने चुनाव प्रचार को एक दिन पहले ही समाप्त कर दिया है। यहां जिन 9 सीटों पर चुनाव होना है, वे सीएम ममता बनर्जी का गढ़ मानी जाती हैं। यही वजह है कि अपने किले को बचाने के लिए वह खासी आक्रामक हैं और दूसरी तरफ बीजेपी ने भी पूरा जोर लगा रखा है। 2014 में इन 9 सीटों में से 3 पर बीजेपी दूसरे नंबर थी, इसलिए उसे इस बार जीत की किरण दिख रही है। लास्ट राउंड में दमदम, बारासात, बसीरहाट, जयनगर, मथुरापुर, डायमंड हार्बर, जाधवपुर, कोलकाता साउथ, कोलकाता नॉर्थ सीटों पर मतदान होगा।
बिहार पर सबकी नजर
आखिरी चरण में बिहार में पटना साहिब हॉट सीट है, जिस पर देश भर की नजरें हैं। यहां बीजेपी से बगावत कर कांग्रेस में शामिल हुए शत्रुघ्न सिन्हा और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के बीच मुकाबला है। इस सीट पर अब तक सांसद रहे शत्रुघ्न सिन्हा की उम्मीदवारी से कांग्रेस के लिए दावा मजबूत हो गया है। इसके अलावा पाटलिपुत्र सीट भी काफी अहम है, जहां से लालू यादव की पुत्री मीसा भारती के मुकाबले बीजेपी के रामकृपाल यादव चुनावी समर में हैं। कभी लालू के करीबी रहे रामकृपाल ने 2014 में मीसा भारती को मात देकर लोकसभा का रास्ता तय किया था। इसके अलावा आरा सीट पर भी निगाहें हैं, जहां से केंद्रीय मंत्री आरके सिंह मैदान में हैं। इनके अलावा नालंदा, बक्सर, सासाराम, काराकाट, जहानाबाद सीटों पर भी वोटिंग होनी है।
मप्र में सुमित्रा ताई की जगह किसे चुनेंगे वोटर?
मध्य प्रदेश की बात करें तो यहां देवास, उज्जैन, मंदसौर, रतलाम, धार, इंदौर, खरगौन और खंडवा सीटों पर मतदान है। इनमें सबसे चर्चित इंदौर की सीट है, जो लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन का गढ़ रहा है। यहां से बीजेपी ने इस बार उनकी जगह शंकर ललवानी को उतारा है। ऐसे में यह देखने वाली बात होगी कि ताई के नाम से लोकप्रिय सुमित्रा की गैरमौजूदगी में इंदौर में किसकी नैया पार लगती है।
झारखंड में गुरु को कड़ी टक्कर दे रहा शिष्य
बीजेपी शासित इस राज्य में दुमका, गोड्डा और राजमहल सीटों पर आखिरी राउंड में वोटिंग है। दुमका को झारखंड की राजनीति के गुरुजी कहे जाने वाले शिबू सोरेन का गढ़ माना जाता है। मैदान में उनके सामने एक बार फिर पुराने शिष्य सुनील सोरेन हैं, जिन्हें दो चुनावों में हार के बावजूद पार्टी ने मैदान में उतारा है। सुनील गुरुजी को कड़ी टक्कर दे सकते हैं। इसके अलावा गोड्डा सीट से बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे एक बार फिर से मैदान में हैं।
किसके हाथ लगेगी पंजाब की बाजी
आखिरी राउंड में पंजाब की सभी 13 सीटों पर वोटिंग होनी है। इनमें से गुरदासपुर सीट सबसे ज्यादा चर्चा में है, जहां से बीजेपी ने सिने स्टार सनी देओल को उतारा है। विनोद खन्ना की सीट रही गुरदासपुर में बीजेपी को जीत की उम्मीद है। इसके अलावा संगरूर सीट भी चर्चा में है, जहां से ‘आप’ भगवंत मान को समर में उतारा है। कांग्रेस ने उनके खिलाफ केवल सिंह ढिल्लों और अकाली दल ने परमिंदर सिंह ढींढसा पर दांव लगाया है। आनंदपुर साहिब सीट भी इस बार खासा फोकस में है, यहां से कांग्रेस के सीनियर लीडर मनीष तिवारी चुनावी जंग में हैं।
हिमाचल:दो सीटों पर आसान फाइट, दो पर टाइट
पहाड़ी राज्य हिमाचल की 4 सीटों पर भी आखिरी राउंड में मतदान होने जा रहा है। 2014 में सूबे की सभी 4 सीटें बीजेपी के खाते में गई थी। इस बार बीजेपी के लिए अनुराग ठाकुर की सीट हमीरपुर में मुकाबला आसान दिख रहा है। मंडी सीट पर कांग्रेस ने बीजेपी के रामस्वरूप शर्मा के मुकाबले पंडित सुखराम के पोते आश्रय को उतारा है। हालांकि शर्मा के लिए यह मुकाबला आसान माना जा रहा है। कांगड़ा एवं शिमला सीटों पर कांग्रेस की ओर से बीजेपी कड़ी टक्कर मिल सकती है।
हाईप्रोफाइल है चंडीगढ़ की चुनावी जंग
केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ की सीट पर भी मुकाबला हाई प्रोफाइल है। यहां मौजूदा बीजेपी सांसद किरण खेर एक बार फिर से समर में हैं, जबकि कांग्रेस से पूर्व रेल मंत्री पवन कुमार बंसल उन्हें टक्कर दे रहे हैं।
पीएम पद कीहम इसे मुद्दा नहीं बनाएंगे।

Web Title : election prachar stop, last election on 19th result will be 23rd may