गहलोत सरकार को रेल पटरी पर वार्ता के लिए बुलाने पर अड़े गुर्जर नेता, प्रशासन ने बढ़ाई पुलिस फोर्स

आरक्षण की मांग कर रहा गुर्जर समाज चौथे दिन भी पटरियों पर बैठा है. 5 प्रतिशत आरक्षण की मांग को लेकर आरक्षण संघर्ष समिति के मुखिया कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला के नेतृत्व में कड़ाके की ठंड के बीच आंदोलनकारी रेल पटरियों पर डटे है. इस बीच कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने साफ कहा है कि सरकार उन्हें उनका हक दे दे , नहीं तो आंदोलन और बढ़ेगा.

जयपुर: राजस्थान में गुर्जरों का आरक्षण के लिए आंदोलन सोमवार को चौथे दिन भी जारी है. गुर्जर नेता मुंबई-पुणे रेल मार्ग पर पटरियों पर बैठे हैं जिसके चलते कई प्रमुख ट्रेन रद्द कर दी गयी हैं या उनके मार्ग में बदलाव किया गया है. राज्य में कई सड़क मार्ग भी बंद हैं. जहां गहलोत सरकार के मंत्री गुर्जर नेताओं से बातचीत करने के लिए जयपुर या कहीं और आने की बात कह रहे है. वहीं, गुर्जर नेता उन्हें यहीं बुला कर इस मामले पर फैसला लेने को बोल रहे हैं.Image result for गुर्जर चौथे दिन भी पटरियों पर

गुर्जर नेता विजय बैंसला ने सोमवार को एक बार फिर दोहराया कि सरकार को वार्ता के लिए मलारना डूंगर में रेल पटरी पर ही आना होगा और आंदोलनकारी वार्ता के लिए कहीं नहीं जाएंगे. कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला व पूरी टीम बैठकर फैसला करेंगे. उन्होंने कहा, ‘‘बातचीत क्या करनी है? सरकार पांच प्रतिशत आरक्षण की हमारी मांग पूरी करे और हम घर चले जाएंगे.’’ इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मांग नहीं माने जाने पर गुर्जर लंबे आंदोलन के लिए तैयार हैं.Image result for गुर्जर चौथे दिन भी पटरियों पर

वहीं, राज्य सरकार में मंत्री मास्टर भवरलाल मेघवाल ने अपने एक बयान में गुर्जर नेता किरोड़ी बैंसला से एक प्रतिनिधिमंडल भेजने की अपील की है. उन्होंने कहा, ”आप आईये या अपनी टीम को भेजिए. राजस्थान विधानसभा में प्रस्ताव पारित कर पहले ही केंद्र सरकार को भिजवाया जा चुका है. केंद्र सरकार इसे नौवीं अनुसूची में शामिल कर गुर्जरों को आरक्षण दे. इससे पहले 12 बजे तक के आंदोलनकारियों के अल्टीमेटम पर भंवरलाल ने कहा था कि कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए राज्य सरकार अपना काम करेगी. 

अभी तक राज्य में नहीं घटी कोई अप्रिय घटना 

वहीं पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) एम एल लाठर ने बताया कि आंदोलन के दौरान कहीं से अप्रिय घटना का कोई समाचार नहीं है. रविवार को कुछ हुड़दंगियों ने धौलपुर में पुलिस के तीन वाहनों को आग के हवाले कर दिया था और हवा में गोलियां चलाईं थीं. लाठर ने बताया कि आंदोलनकारियों ने दौसा जिले में सिकंदरा के पास राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 11 को अवरूद्ध कर दिया है. इसके साथ ही नैनवा (बूंदी), बुंडला (करौली) व मलारना में भी सड़क मार्ग अवरूद्ध है.

आपको बता दें कि गुर्जर आंदोलन को लेकर मंत्री विश्वेन्द्र सिंह गुर्जरों से वार्ता करने रेलवे ट्रैक पर आए थे, लेकिन, कोई नतीजा नहीं निकल सका था. गुर्जर समाज अपनी मांगों पर अडिग है . जैसे जैसे समय गुजर रहा है वैसे वैसे गुर्जर आंदोलन तेज होता जा रहा है . आज चौथे दिन प्रदेश के अन्य क्षेत्रों में भी आंदोलन तेज हो गया. गुर्जर समाज के लोगो ने कई जगहों पर हाईवे जाम कर दिए. ऐसे में आम लोगो की मुसीबतें ओर बढ़ गई है. वहीं, कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला का कहना है कि सरकार उन्हें उनका हक दे दे वरना यह आंदोलन और बढ़ेगा . धौलपुर में हुई हिंसात्मक घटना को लेकर कर्नल ने कहा ही गुर्जर समाज नहीं चाहता कि कहीं भी हिंसात्मक घटना हो.

Web Title : Gehlot leader to call on Gehlot government for talks on rail track