गुर्जर आरक्षण आंदोलन: गुर्जर समाज की महापंचायत आज, आंदोलन को लेकर रेलवे सतर्क

जयपुर: पांच प्रतिशत आरक्षण की मांग को लेकर राजस्थान के गुर्जर मंगलवार को भरतपुर के बयाना अड्डा में गुर्जर आरक्षण महापंचायत को देखते हुए सरकार ने गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के साथ हुई वार्ता में कोई सहमति नहीं बन पाई है। मंत्रियों का तर्क था कि केंद्र में लागू हुआ तो प्रदेश में भी संभव होगा। बता दें कि आंदोलन के दौरान किसी भी तरह की विपरित स्थिति से निपटने के लिए रेलवे ने रेपिड एक्शन फोर्स (आरपीएफ) की अकिरिक्त कंपनियां तैनात की गई है। इनमें तीन कंपनियां भरतपुर संभाग में तैनात रहेंगी। 2007 से शुरू हुई इस आंदोलन में अबतक 72 लोगों की जान जा चुकी है।

भरतपुर में गुर्जर आरक्षण के मुद्दे पर दो गुटों की अलग-अलग महापंचायतें हो रही हैं. इनमें एक पंचायत आंदोलन के नेता कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला के नेतृत्व में अड्डा गांव, तो दूसरी छत्तीसा के पंच-पटेलों की ओर से मोरोली स्थित टोंटा बाबा मंदिर पर होगी. गुर्जर आरक्षण आंदोलन के मद्देनजर पुलिस और प्रशासन ने भी अपनी कमर कस ली है.

पूरे जिले में धारा 144 लागू कर दी गई है. मोबाइल इंटरनेट सेवाएं आज शाम तक के लिए बंद कर दी गई हैं. इसके साथ ही सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम किए गए हैं. पुलिस और अर्धसैनिक बलों की टुकड़ियां तैनात की गई हैं. रोडवेज ने बयाना से आगे करौली और हिंडौन मार्ग पर मंगलवार सुबह से ही बसों का संचालन बंद करने का फैसला किया है.

जानकारी के मुताबिक राज्य सरकार द्वारा दिए गए प्रस्ताव में 9 बिंदु हैं। नेताओं के मुताबिक सरकार के प्रस्ताव को महापंचायत में सुनाया जाएगा। इसके बाद वहीं सभी मिलकर आगे का रुख तय करेंगे।

महापंचायत के दौरान हिंसा से निपटने के लिए प्रशासन ने पुख्ता इंतजाम कर लिए हैं। प्रशासन की ओर से भरतपुर जिले में धारा 144 लागू कर बयाना, उच्चैन, रुदावल समेत कई इलाकों में इंटरनेट सेवा पर रोक लगा दी गई है। वहीं एहतियातन बयाना से आगे करौली और हिंडौन मार्ग पर मंगलवार को बसों का संचालन बंद कर दिया गया है। पिछले आंदोलन के दौरान रेलवे को हुए नुकसान को देखते हुए रेल पटरियों पर भारी संख्या में पैरामिलिट्री फोर्स की तैनाती की गई है।

Web Title : Gurjar Reservation Movement: Gurjar Samaj's Maha Panchayat today