हनुमान बेनीवाल ने किया नई पार्टी का ऐलान, हुंकार रैली में जुटे लाखों समर्थक

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी देगी भाजपा-कांग्रेस को टक्कर

जयपुर: राजस्थान में तीसरी शक्ति के रूप में उभर रहे खींवसर से निर्दलीय विधायक हनुमान बेनीवाल ने हुंकार रैली में अपनी नई पार्टी का एलान कर दिया है. बेनीवाल की पार्टी का नाम राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी होगा वहीं चुनाव चिन्ह- पानी की बोतल है. इस दौरान बेनीवाल ने मंच पर शुभ कार्य के शुभारंभ से पहले पूजा अर्चना के बाद एक छोटी बच्ची को बुलाया. फिर उसके हाथों के बटन दबवाकर नई पार्टी की घोषणा की. इन तीसरे मोर्चे की नई पार्टी का स्लोगन स्वच्छ, सरल और समर्पित रखा गया है.

जयपुर में किसान हुंकार महारैली के जरिए लाखों की संख्या में मौजूद समर्थकों के सामने बेनीवाल ने अपनी नई पार्टी राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी का एलान कर दिया. हनुमान बेनीवाल ने नई पार्टी की विधिवत घोषणा करते हुए हुंकार रैली में मौजूद लाखों से अपील की कि वे नई पार्टी की मजबूती के लिए कार्य करे और लोगों को इससे जोड़े. तभी कांग्रेस और भाजपा का राज खत्म हो पाएगा और किसान का बेटा राजस्थान की कुर्सी पर बैठेगा. हुंकार रैली में बड़ी संख्या में लोग पहुंचे और तीसरे मोर्चे के लिए अपना समर्थन व्यक्त किया. रैली में समाजवादी पार्टी और भारत वाहिनी पार्टी के कई बड़े नेता मौजूद है.Hanuman Beniwal, National Democratic Party, botelउल्लेखनीय है कि साल 2008 में भाजपा के टिकट पर खींवसर से विधायक चुने गए बेनीवाल की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से नहीं बनी तो वे अलग हो गए. साल 2013 में वह निर्दलीय के रूप में जीते. राज्य की राजनीति में बड़ी भागीदारी रखने वाला जाट समुदाय नागौर, सीकर, बीकानेर सहित शेखावटी के कई जिलों की 50 से ज्यादा सीटों में परिणामों को प्रभावित कर सकता है.

हनुमान बेनीवाल के भाषण की बड़ी बातें:- 
धरतीपुत्रों का राज राजस्थान में लाना है.
वसुंधरा ने भ्रष्टाचार पैदा किया और गहलोत ने उसका पालन पोषण किया. इन दोनों का गठबंधन तोड़ूंगा.
जो भी बीजेपी और कांग्रेस के खिलाफ हैं. उन्हें साथ में जोड़ेंगे.
हनुमान बेनीवाल आप सभी को सत्ता के नजदीक लेकर जाउंगा, धोखा नहीं दूंगा.
जरूरत पड़ी तो दिल्ली भी कूच करूंगा.
पीएमटी घोटाला, बजरी घोटाला और खान घोटाला उजागर करने के लिए मीडिया वालों का शुक्रिया.
जहां प्रदेश के किसानों का पसीना बहेगा, वहां हनुमान बेनावाल अपना खून देकर उनका मान रखूंगा.
वसुंधरा और गहलोत के भ्रष्टाचार की जांच करवाएंगे, और दोनों को स्पेशल जेल में डालेंगे.
तिवाड़ी और मैं ही हूं जो 24 घंटे आपके लिए सेवा में हमेशा रहते हैं.
राजस्थान में अगले 48 घंटों में ढाणी-ढाणी में हमारी पार्टी का झंडा दिखाई देगा.
भाइयों ये सेमिफाइनल जीतने के बाद फाइनल में देश की गद्दी पर भी किसान का बेटा बैठाएंगे.
आम जन रात आठ बजे के बाद थानों में चला जाए तो पुलिस वाले उसे डंडा मारकर जेल में बंद कर देगा.
अगर मुझे मंत्री बनना होता तो मैं भी वसुंधरा का सैंडल उठाकर बन जाता.
इस बार अगर आप चूके तो 50 साल तक कोई लड़ाका नहीं मिलेगा.
नौजवानों से अपील है कि इस बोतल को रात आठ बजे के बाद किसी और रुप में इस्तेमाल नहीं करना नहीं तो दिक्कत हो जाएगी.
ये बोतल एक और काम आएगी, वसुंधरा भूतनी और गहलोत भूत को तिवाड़ी जी अपने मंत्रों से इसी बोतल में बंद करेंगे.
ये हमारा चुनाव चिन्ह का बोतल हमारी ट्रांसपैरेंट है, वसुंधरा राजे वाली बोतल नहीं हैं.
हमारी लड़ाई का परिणाम है कि किसानों के 50 हजार कर्ज माफ हुआ, टोल फ्री हुआ, स्वामीनाथन आयोग रिपोर्ट आंशिक तौर पर लागू हुआ, युवाओं के लिए 1 लाख रोजगार निकाला
जिस तरह भगत सिंह ने आजादी के लिए अपने प्राण न्योछावर कर दिया था, उसी तर मैंने भी राजस्थान की राजनीति में भगत सिंह की भूमिका निभाई है.
आचार संहिता के पहले राजस्थान के कर्मचारी प्रदर्शन पर थे, लेकिन जिद्दी वसुंधरा सराकर ने उनसे मिलना भी उचित नहीं समझा.
गहलोत और वसुंधरा ने मिलकर 20 साल तक लूट किया.
कांग्रेस से ज्यादा विपक्ष की भूमिका मैंने और घनश्याम तिवाडी़ ने निभाई.
राजेंद्र राठौड़ और यूनुस खान जैसे नेता अपराधियों को शरण दे रहे हैं.
हमारी ही मांग थी कि टोलमुक्त राजस्थान होनी चाहिए.
मुख्यमंत्री और पूर्व मुख्यमंत्री के बंगले को खाली कराने को लेकर जो मांग तिवाड़ी जी ने किया, मैंने उसका भी समर्थन किया.
मजबूत लोकपाल लागू करने की मांग भी हमारी है.
स्वामीनाथन आयोग रिपोर्ट को राजस्थान में लागू करवाने की मांग भी हमारी थी.
हुंकार रैली की तीसरी मांग थी कि बेरोजगारी भत्ता 10 हजार रुपए दिए जाएं.
सब कह रहे हैं कि अब तक राजस्थान में तीसरा मोर्चा नहीं बना, लेकिन इस बार बनेगा और सरकार भी बनेगी.
राजस्थान का युवा इस बार भगत सिंह की भूमिका में लड़ रहा है.
बूथों पर बीजेपी के एजेंट नहीं मिलेंगे, इस चुनाव में.
कोई कह रहा था कि अमित शाह सेटिंग कर रहे हैं, लेकिन मैं तो घनश्याम तिवाड़ी से सेट था.
बीकानेर रैली के बाद किरोड़ी जी छोड़कर चले गए.
तो सब ने कहा कि अब बेनीवाल भी चला जाएगा. लेकिन मैं कहीं नहीं जा रहा हूं.
बाड़मेर की हुंकार रैली से दिल्ली के साथ-साथ पाकिस्तान भी हिल गया.
बाड़मेर में जब मैंने हुंकार भरी तो दिल्ली तक में भूचाल आ गया.
बीकानेर रैली के बाद किरोड़ी जी छोड़कर चले गए.
तो सब ने कहा कि अब बेनीवाल भी चला जाएगा. लेकिन मैं कहीं नहीं जा रहा हूं.
बाड़मेर की हुंकार रैली से दिल्ली के साथ-साथ पाकिस्तान भी हिल गया.
बाड़मेर में जब मैंने हुंकार भरी तो दिल्ली तक में भूचाल आ गया.
2013 में 7 निर्दलीय जीते थे 6 तो वसुंधरा के गोद में जाकर बैठ गए.
हमारे हाथ में तो संघर्ष लिखा है, तिवाड़ी जी के हाथ में भी संघर्ष लिखा है.
वसुंधरा, घनश्याम जी के अंडर में काम किए हुई हैं.
जब वो युवा मोर्चा की सेक्रेटरी थी तो तिवाड़ी जी अध्यक्ष थे.
हमारे हाथ में तो संघर्ष लिखा है, तिवाड़ी जी के हाथ में भी संघर्ष लिखा है.
वसुंधरा, घनश्याम जी के अंडर में काम किए हुई हैं.
जब वो युवा मोर्चा की सेक्रेटरी थी तो तिवाड़ी जी अध्यक्ष थे.
किरोड़ी जी हमें छोड़ गए. और वो शंख लेक जाकर वसुंधरा की झोली में डाल दिया.
किरोड़ी लाल ने शंखनाद किया, मैंने हुंकार भरी, तिवाड़ी जी ने सरकार में रहते हुए उसके भ्रष्टाचार की खिलाफत किया.
वो बीजेपी होगी या कांग्रेस, दो चार दिन में पता चल जाएगा.
युवाओं का जोश देख कर पक्का है कि राजस्थान में एक पार्टी तो तीसरे नंबर पर जाएगी.
आज आपने इन दोनों पार्टीयों पूरा फिल्म दिखा दिया.
कल जैसा रोड शो कर आप लोगों ने ट्रेलर दिखाया था.

घनश्याम तिवाड़ी के भाषण की बड़ी बातें – 
मेरा चुनाव चिन्ह बांसुरी है और बेनीवाल की बोतल. इसलिए पानी पियों और चैन की बांसुरी बजाओ.
राजस्थान में पानी की कमी है, उसे पूरी करेंगे.
नदियों,तालाबों को भरने की कोशिश करेंगे. चेहरे पर भी पानी रखेंगे. इसलिए इज्जत के साथ काम करेंगे.
जैसा मैं अपने बेटे अखिलेश से स्नेह करता हूं वैसे ही मैं हनुमान बेनीवाल से भी करता हूं, ऐसा मैंने हमेशा कहा है.
हनुमान के पिता जब विधायक थे, मैं भी विधायक था.
हमेशा ये मेरे सामने रहते हैं, मेरा बेटा और ये साथ पढ़े हैं.
ओबीसी में आने वाले 14 फीसदी मुसलमानों को भी हमने शामिल किया है.
ऐसा सिर्फ रास्थान में हुआ है.
जहां-जहां तीसरी पार्टी का राज्य है वहां विकास है.
जहां-जहां बीजेपी का राज्य है वह राज्य बीमारू है.
कांग्रेस और बीजेपी ने मिलकर राजस्थान को बीमारू राज्य बनाया है.
मैं और बेनीवाल मिलकर इससे इसे निकालेंगे.
अमित शाह अगर आपका अंगद का पैर है तो जा कर लंका में रोपो, राजस्थान लंका नहीं है.
राजे सरकार ने ढांचागत भ्रष्टाचार स्थापित किया.
या तो वीर तेजा जी सत्यनिष्ठ थे, या तो चौधरी चरण सिंह कुछ नेताओं में हैं जो सत्यनिष्ठ थे.
चौधरी चरण सिंह मेरे आदर्श हैं. अगर वो नहीं होते तो आज किसानों के पास जमान नहीं होते.
‘जीवतो हाथी लाख को और मरेणो हाथी सवा लाख को’, यह नहीं चलेगा.
जो पूर्व मुख्यमंत्री बंगला लेकर बैठें हैं उन्हें बाहर करेंगे.
मैं और बेनीवाल सरकार में आएं तो एक लाख प्रतिवर्ष रोजगार युवाओं को मिलेगा.
8 लाख सरकारी पदें खाली है, सिर्फ 4 लाख पद भरे हैं.
हनुमान के साथ मिलकर हम सब खड़े होंगे, तो हनुमान के बल अपरंपार बढ़ेगा.
चार साल तक विधानसभा में मेरी किसी मदद की तो उसका नाम हनुमान बेनीवाल है.
किसान की बिजली मुफ्त ही नहीं, उसका पैसा भी मिलता अगर अंबानी से सरकार समझौता नहीं करती.
विधानसभा में गाय चराने नहीं आएंगे एक आदेश देकर किसान का कर्ज माफ करेंगे.
चार साल में सरकार ने 4 लाख करोड़ रुपए उद्योगपतियों का माफ किया है.
किसान बंटे नहीं, बस बंठ लगाकर इस सरकार का कट लगा देंगे.
राजे सरकार ने 5 साल में सिर्फ किसान विरोधी काम किया है.
मैं और बेनीवाल मिलकर इस लठ को विधानसभा में भी गाड़ेंगे.
ये रैली नहीं, रैला भी नहीं, यह तो लठ गाड़ दिया है.
आज की रैली कांग्रेस और बीजेपी को बताने के लिए काफी है कि आप के दिन अब लद गए हैं.
वीर तेजा जी को याद करते हुए तिवाड़ी ने लोगों को उनका वंशज बताया.
जहां यह मंच बना है वो सांगानेर में है, और यहां का विधायक होने के नाते मैं सभी का स्वागत करता हूं.
संबोधन से पहले तिवाड़ी ने कहा कि हनुमान के बल को देख कर आज हनुमान जी कह रहा हूं.
इस शक्ति को देखकर आज मैं हनुमान को हनुमान जी कहूंगा.

जयंत चौधरी के भाषण की बड़ी बातें
चौधरी चरण सिंह नहीं चाहते थे कि हम जातियों में बंट जाएं.
आजकल ट्रेंड है कि बाइक के पीछे लिखते हैं जाट, रिस्की जाट,
इसे छोड़कर आप लोग लिखो किसान का बेटा..कोई पुलिस वाला लाठी नहीं मारेगा,
क्योंकि वो भी किसान का बेटा है.
हमें हिंदू-मुस्लिम-दलित वोट बैंक की जरूरत नहीं है, हमें किसान वोट बैंक चाहिए.
मोदी जी अजमेर आए उस दिन चुनाव की तारीख का ऐलान हुआ.
मोदी सरकार को जयंत चौधरी ने मक्करों की सरकार कही.
किसान अपनी मांग को लेकर जब दिल्ली जा रहे थे,
तो मोदी जी ने कहा कि इन्हें राजघाट तक मत पहुंचने देना.
राजस्थान में बिना घूस दिए कोई काम नहीं हो सकता है.
राजस्थान में एक भी किसान का कर्जमाफ नहीं हुआ.
56 इंची सरकार आज अपने लोगों के साथ नहीं है, नकस्लियों, पाकिस्तान के आगे नतमस्तक है.
नोटबंदी को लेकर जयंत चौधरी ने कहा कि ऐसा लग रहा है कि बंदर के हाथ में बंदूक दे दिया हो जनता ने.
अगर आज दूरदर्शन पर ऐलान हो कि मोदी जी एक खास संदेश देंगे, तो देश में हड़कंप मच जाता है कि आज क्या कहने वाले हैं.
वसुंधरा राजे ने 5 साल में 15 लाख की नौकरी देने वाली थी, लेकिन नहीं दिया.
जयंत चौधरी मंच से वसुंधरा सरकार और मोदी सरकार पर जमकर हमला बोल रहे हैं.
मोदी जी 2014 में हिंदी सीरियल की तरह सवाल पूछते थे, और देश के नौजवान कूद-कूद कर जवाब देते थे.
हनुमान बेनीवाल को जो सिंबल मिला है, उसके लिए बधाई, सोच समझ कर सिंबल चुना है
अब पांच दिन का खेल नहीं रह गया है. अब 20-20 का मैच है, तो छक्का मारना होगा.
जनादेश को ठोकर मारने का काम बीजेपी सरकार ने किया है.
2004 में आपने भ्रष्टाचार मुक्त करने के लिए सरकार बनाई थी, लेकिन ये भी वैसी ही निकली
किसान का जमीन अगर सरकार लेना चाहती है तो किसान की सहमति से ले.
जहां-जहां बीजेपी शक्तिशाली है वहां हम और समाजवादी पार्टी मिल कर उनका तंबू उखाड़ रहे हैं.
बीजेपी के खिलाफ हम लगातार बिगुल चला रहे हैं.
जब हम ताकतवर होते हैं तो पूरी दुनिया साथ आती है.
इंसान की पहचान विपक्ष में साथ रहने वालों से हो.
उत्तर प्रदेश में बेनीवाल ने दिया था हमारा साथ.
चौधरी अजीत सिंह ने मुझे भेजा

 

Web Title : Hanuman Beniwal announces new party