अंतरिक्ष में भारत की ‘सेंचुरी’, PSLV C-40 से 31 उपग्रह किए एक साथ लॉन्च

चेन्नई: श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से PSLV C-40  से 31 उपग्रह एक साथ लॉन्च किए गए। इसी के साथ अंतरिक्ष में भारत की सेंचुरी पूरी हो गई। यह इसरो का 42वां और साल 2018 का पहला मिशन है।

PSLV C-40 ने मौसम विज्ञान संबंधी कार्टोसेट-2 सीरीज का सेटेलाइट और अन्य 30 को लेकर आज सुबह 9.28 बजे उड़ान भरी।
बता दें कि मिशन से संबंधित समिति की मंजूरी मिलने के बाद इसके लिए गुरुवार सुबह 5.29 बजे उलटी गिनती शुरू की गई। 30 अन्य सेटेलाइट में भारत का एक माइक्रो और एक नैनो सेटेलाइट है। जबकि छह अन्य देशों के तीन माइक्रो और 25 नैनो सेटेलाइट हैं। ये देश हैं- कनाडा, फिनलैंड, फ्रांस, कोरिया, ब्रिटेन और अमेरिका।

भारत की कामयाबी से डरा हुआ पाकिस्तान

भारत की इस कामयाबी से पाकिस्तान डरा हुआ है, क्योंकि पाकिस्तान को डर है कि अगर भारत ने अपने तीनों उपग्रह को सफलतापूर्वक अंतरिक्ष कक्षा में प्रक्षेपित कर लिया, तो सीमा पर उसके नापाक इरादों का तगड़ा झटका लगेगा।

जानिए कार्टोसैट -2 की ताकत
– कार्टोसैट-2 उपग्रह एक बड़े कैमरे की तरह है।

– इसमें मल्टी स्पेक्ट्रल कैमरे भी लगे हैं।

– इसे ‘आई इन द स्काई’ यानी आसमानी आंख भी कह सकते हैं।

– यह एक अर्थ इमेजिंग उपग्रह है।

– सीमा पर नजर रखने के लिए कार्टोसैट-2 इसरो की मदद करेगा।

– इससे उच्च क्वालिटी की तस्वीर मिलेगी।

– सटीक मैप बनाने में भी यह उपयोगी होगी।

इन 30 सेटेलाइट का कुल वजन 613 किलोग्राम है, जबकि सभी 31 सेटेलाइट का कुल वजन 1,323 किलोग्राम है। सेटेलाइट लॉन्च का पूरा कार्यक्रम दो घंटे और 21 सेकेंड तक चलने की उम्मीद है। इस मिशन से पहले इसरो ने पिछले साल आइआरएनएसएस-1एच नेविगेशन सेटेलाइट को लॉन्च किया था।

Web Title : Hindustan's 'Century' in space, PSLV launches simultaneously launched from C-40 to 31