IAS ऑफिसरों का केजरीवाल को जवाब, ‘हड़ताल पर नहीं हैं हम

नई दिल्ली: दिल्ली में अफसरों द्वारा लंबे अरसे से कथित हड़ताल पर जाने और असहयोग के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आरोपों का आईएएस असोसिएशन ने पुरजोर खंडन किया है। आईएएस असोसिएशन ने रविवार शाम को प्रेस क्लब ऑफ इंडिया में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि अफसर हड़ताल पर नहीं हैं। सारे अफसर काम कर रहे हैं और यहां तक कि छुट्टियों के दिन भी काम कर रहे हैं। आईएएस असोसिएशन ने कहा कि चीफ सेक्रटरी पर हमले के बाद से अफसर डरे-सहमे हुए हैं। अफसरों ने कहा कि राजनीतिक कारणों से उन्हें ‘टारगेट’ किया जा रहा है।

अफसरों ने कहा कि उनपर व्यक्तिगत हमले किए जा रहे हैं और झूठ फैलाया जा रहा है कि अफसर हड़ताल पर हैं। बता दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अपने कैबिनेट के 3 अन्य सहयोगियों के साथ पिछले एक हफ्ते से एलजी हाउस में धरना दे रहे हैं। केजरीवाल का आरोप है कि दिल्ली के अफसर काफी लंबे वक्त से हड़ताल पर हैं। दिल्ली आईएएस असोसिएशन की मनीषा सक्सेना ने कहा, ‘आज की प्रेस कॉन्फ्रेंस हमारे लिए भी काफी असामान्य है…हमने कभी सोचा भी नहीं था कि हमें इस तरह अपना पक्ष रखना पड़ेगा…हम हड़ताल पर नहीं है…हमारा किसी राजनीतिक दल से वास्ता नहीं है…दिल्ली में सभी अफसर काम कर रहे हैं…छुट्टी के दिनों में भी काम कर रहे हैं।’

आईएएस अफसरों ने कहा कि दिल्ली में हालात सामान्य नहीं हैं। आईएएस असोसिएशन ने कहा कि हम सिर्फ संविधान को कानून के प्रति जवाबदेह हैं। डोर स्टेप डिलिवरी से जुड़ी फाइल को रोके जाने के केजरीवाल के आरोपों पर अफसरों ने कहा, ‘डोर स्टेप डिलिवरी से जुड़ी फाइल के रुकने में आईएएस अफसरों का कोई रोल नहीं है।’ केजरीवाल सरकार का आरोप है कि मॉनसून का सीजन सिर पर है लेकिन अफसरों की हड़ताल की वजह से अभी तक नालों की सफाई का काम शुरू तक नहीं हुआ है। इस आरोप के जवाब में आईएएस असोसिएशन ने कहा, ‘डिसिल्टिंग ऑफ ड्रेन्स के बारे में कहा जा रहा है कि हड़ताल की वजह से काम नहीं हो रहा है…मुख्यमंत्री के साथ 25 जून को मीटिंग होनी है जिसमें डिसिल्टिंग ऑफ ड्रेन्स अजेंडा में सबसे ऊपर है…डिसिल्टिंग का काम शुरू नहीं हुआ…यह आरोप झूठा है…इस तरह की कोई बात नहीं है कि डिसिल्टिंग ऑफ ड्रेन्स शुरू नहीं हो पाई है….इस तरह की बातें भ्रामक हैं…झूठ हैं..।’

आईएएस असोसिएशन ने अरविंद केजरीवाल के उस आरोप को भी झूठ बताया कि बाबू मीटिंग में नहीं आते। असोसिएशन ने कहा, ‘हम मीटिंग नहीं अटेंड कर रहे हैं…कोऑपरेट नहीं करते हैं…इस तरह के आरोप पूरी तरह झूठ हैं…पॉलिटिकल चीजों के लिए हमें इस्तेमाल मत कीजिए…हमें अपना काम करने दीजिए।’

आईएएस असोसिएशन ने कहा कि चीफ सेक्रटरी पर हमले के बाद से ही अफसरों में डर का माहौल है। अफसरों ने कहा, ‘चीफ सेक्रटरी के साथ 19-20 फरवरी की दरम्यानी रात जो कुछ हुआ, उसके बाद से हम डरे हुए हैं…चीफ सेक्रटरी रात 12 बजे मीटिंग अटेंड करने गए थे…क्या वह कोऑपरेट नहीं कर रहे थे…ऐसा किसी भी अधिकारी के साथ हो सकता है…हम लंच ब्रेक के बाद 5 मिनट का मौन रखकर उस घटना का विरोध और चीफ सेक्रटरी के प्रति अपना समर्थन जताते हैं…ताकि हमें वह डरावना वाकया याद रहे…और इस विरोध को हम जारी रखेंगे।’
Web Title : IAS officer replies to Kejriwal, 'We are not on strike