एक्जिट पोल की मानें तो राजस्थान में CM और डिप्टी CM दोनों बन सकते हैं नया चेहरा

जयपुर: राजस्थान के रण में जनता ने अपना फैसला दे दिया है। मसलन नतीजे 11 दिसंबर को आएंगे। लेकिन, उससे पहले एक एक्जिट पोल सियासतदारों के बीच चर्चा का विषय बन गया है। राजस्थान की सत्ता तक कौन पहुंचेगा, इसका निर्णय जनता जनार्दन ने कर दिया है। 74.11 प्रतिशत मतदान के साथ हर प्रत्याशी का भाग्य ईवीएम में लॉक हो गया है। दरअसल उससे पहले सामने आए एक्जिट पोल ने कांग्रेस की झोली भर दी है तो भाजपा की धड़कनें बढ़ा दी है। इन एक्जिट पोल के नतीजों के बीच एक एक्जिट पोल के आकड़े ने सोचने पर मजबूर कर दिया है। इस पोल दी गई सीटों में कांग्रेस या भाजपा को किसी को बहुमत के आकड़े तक नहीं पहुंचाया है। जिसके बाद ये आकलन भी शुरू हो गया है कि अगर यही सही हुआ तो क्षेत्रिय दलों सहित बागी ही इस बार किंग मेकर बनेंगे। ऐसे में राजस्थान को मुख्यमंत्री के साथ उप मुख्यमंत्री भी मिल सकता है।

हनुमान बेनीवाल और बागी बनेंगे ‘किंग मेकर’

ज्यादातर एग्जिट पोल ने कांग्रेस की झोली में खुशी डाली है तो वहीं सभी एक्जिट पोल से अलग जाते हुए ‘रिपब्लिक’ ने अपने पोल में भाजपा और कांग्रेस दोनों में से किसी को भी सत्ता के बहुमत तक नहीं पहुंचाया है। इस पोल में जहां भाजपा को 93 सीटें दी गई हैं तो कांग्रेस को 91 सीटें मिली हैं जबकि, अन्य के खाते में 15 सीटें जाती बताई गई है। इसमें सबसे खास बात यह है कि इस पोल के नतीजों में सबसे बड़ी पार्टी के रूप में भाजपा को दिखाया गया है। वहीं क्षेत्रिय दलों में प्रमुख हनुमान बेनीवाल और घनश्याम तिवाड़ी सहित बागी किंग मेकर की स्थिति में पहुंचते दिखाई दे रहे हैं।

पहले भी बनी है जोड़-तोड़ की सरकार
राजस्थान में इससे पहले 1993 और 2008 के चुनाव में यही यही स्थिति बनी थी जब बागी और क्षेत्रिय दलों ने ही सरकार बनवाई थी। 1993 में भैरोसिंह शेखावत ने कांग्रेस से बागी बनकर चुनाव लड़कर जीते नेताओं को साथ लेकर सरकार बनाई थी। इस दौरान लगातार दूसरी बार भाजपा की सरकार बनी थी। जबकि, इसके बाद 2008 के चुनाव में अशोक गहलोत ने बसपा के 6 विधायकों को अपने साथ मिलाकर सरकार बनाई थी।

क्या नया चेहरा होगा CM
राजनीतिक विशलेषक मानते है कि इस बार के राजस्थान विधानसभा चुनाव के नतीजे सबको अचंभित कर सकते है। ऐसे में मुख्यमंत्री का चेहरा नया होगा। साथ ही उप मुख्यमंत्री भी मिल सकता है राजजस्थान को।

Web Title : If you believe exit polls, both CM and Deputy CM can become a new face in Rajasthan.