इस गांव में BJP नेताओं और कार्यकर्ताओं की ‘नो एंट्री, यह है बड़ी वजह

नई दिल्ली: देश में पिछले दिनों घटीं उन्नाव- कठुआ गैंगरेप जैसी वारदातें अपना रंग दिखाने लगी हैं। जनता में इन घटनाओं को लेकर चर्चाएं तेज हैं, आमजन को डर है कि कहीं इस तरह की घटना उनकी बच्ची या औरत के साथ न हो जाए। इन घटनाओं से भाजपा के विपरीत माहौल बनता दिखाई दे रहा है। मिसाल के तौर पर हम आपको लिए चलते हैं  यूपी के इलाहाबाद शहर की शिवकुटी कॉलोनी जहां के लोगों ने अपनी दीवारों पर बड़े-बड़े पोस्टर चिपका दिए हैं। अब आप  सोच रहे होंगे कि आखिर इन पोस्टरों में ऐसी क्या खास बात है। तो हम आपको बताते हैं कि इन पोस्टरों में खास क्या है।View image on Twitterजानकारी के अनुसार गांव में चिपकाए गए इन पोस्टरों में शिवकुटी कॉलोनी के लोगों ने लिखा है कि भाजपा के नेताओं का इस कॉलोनी में आना मना है क्योंकि यहां औरतें और बच्चियां रहती हैं। जब लोगों से ऐसा करने की वजह का पता लगा तो स्थानीय लोगों ने बताया कि उन्होंने इस तरह के पोस्टर इस लिए लगाए हैं क्योंकि हाल के दिनों में भाजपा के कई नेताओं और कार्यकर्ताओं के ऊपर महिलाओं के खिलाफ हिंसा और रेप के आरोप लगे हैं। यह खाली एक पोस्टर ही नहीं बल्कि भाजपा के लोगों के लिए एक चेतावनी भी है कि अगर नहीं संभले तो अंजाम गलत होगा।'à¤à¤¸ à¤à¥à¤²à¥à¤¨à¥ मà¥à¤ लà¤à¤¾ BJP à¤à¥ à¤à¤¾à¤°à¥à¤¯à¤à¤°à¥à¤¤à¤¾à¤à¤ à¤à¥ à¤à¤à¤à¥à¤°à¥ पर बà¥à¤¨'इलाहाबाद के इस कॉलोनी के लोगों द्वारा इस तरह के पोस्टर लगाए जाने को यूपी से भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के ऊपर लगे रेप के आरोपों से जोड़कर देखा जा रहा है। उन्नाव गैंगरेप मामले में सीबीआई ने शुक्रवार रात भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को गिरफ्तार किया था और 16 घंटे की पूछताछ के बाद सेंगर को फिर से अदालत ने 7 दिनों की सीबीआई कस्टडी में भी भेज दिया है। अब लोग तरह-तरह से पार्टी के खिलाफ अपना गुस्सा जाहिर कर रहे हैं।bjp

न्यूज एजेंसी एएनआई की खबर के अनुसार पोस्टर्स शिव कुटी कॉलोनी में चिपकाए हैं। ऐसे ही पोस्टर्स इससे पहले केरल में चिपकाए गए थे। कुछ घरों के बाहर लगे इन पोस्टर्स में लिखा गया था कि घर में 10 साल से कम उम्र की लड़कियां हैं, इसलिए वोट मांगने वाले भाजपा उम्मीदवार घर से दूर रहे।à¤à¤²à¤¾à¤¹à¤¾à¤¬à¤¾à¤¦ मà¥à¤ à¤à¤°à¥à¤ à¤à¥ बाहर लà¤à¥ पà¥à¤¸à¥à¤à¤°, 'à¤à¤¸ मà¥à¤¹à¤²à¥à¤²à¥ मà¥à¤ न à¤à¤à¤ बà¥à¤à¥à¤ªà¥ नà¥à¤¤à¤¾...'

 

 

Web Title : In the village, there is no entry for BJP leaders and workers