न्यूनतम मुल्य बढ़ने के बाद किसानों का बाजरे की फसल पर बढ़ा रूझान, बाजरा व दलहन की पैदावार पर फोकस

कम बरसात के बाद भी 26 लाख हेक्टेयर में बुवाई पूरी, सरकार का टारगेट 1. 59 लाख हेक्टेयर में बुवाई होगी

जयपुर। चुनावी साल में किसानो को साधने के लिए केन्द्र सरकार ने बाजरा समेत दलहलन फसलों पर न्यूनतम मूल्य बढ़ा दिया है। लिहाजा किसान एक बार फिर से बाजरे के साथ मूंगए उड़दव मोठ की पैदावर बढ़ाने के लिए कम बरसात के बाद भी खेतों में बीज डालना शुरू कर दिया है।

राज्य सरकार खरीफ 2018.19 में प्रदेश में साढे ग्यारह लाख हेक्टेयर भूमि में पैदावार होने का टारगेट लेकर चल रही है। कमजोर मानसून के बावजुद दस जुलाई 2018 तक प्रदेश में बाजरे की 4 लाख हेक्टेयरए दलहन की 6 लाख हेक्टेयर व ग्वार की 4ण्2 लाख हेक्टेयर भूमि में फसल बोई जा चुक है। राज्य सरकार ने इन फसलों की बुवाई का क्रमश बाजरे की 42ए दलहन की 28 व ग्वार की 33 लाख हेक्टेयर बुआई का टारगेट तय किया है। इसी के हिसाब से इन फसलों के बीज व खाद्य का भण्डारण किया गया है। इसके अलावा कृषि विभाग का दावा है कि कपासए मूंगफली व मक्का की बुवाई टारगेट पूर कर चुकी है।

आपको बता दे कि हाल ही में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जयपुर में हुए लाभार्थी सम्मेलन में मोदी ने बाजरा समेत दलहनी फसलों पर एमपीएस बढ़ाने का फैसला लिया था। फसल का न्यूनतम मुल्य बढ़ने से किसानों की चेहरों पर चमक दिखी। केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा एमएनपीएस में बढ़ोतरी के पीछे यह भी कारण है कि बाजरा समेत दलहनी फसले कम पानी व कम लागत में तैयार होती है। इस लिए चुनावी साल में सरकार किसानों को खुश करने के लिए खरीफ की इन मुख्य किस्मों पर ही एमएसपी बढ़ाया है। कृषि व बीज निगम ने इस बारे में बताया कि सरकार के टारगेट के अनुसार उनके पास बीज का भण्डारण है। इसी तरह खाद्य को लेकर भी सरकार ने एडवांस में खरीद कर रखी है।

किसान के माथे पर खुशी भी और चिंता भी
केन्द्र सरकार द्वारा खरीफ की मुख्य किस्मों पर एमएसपी बढ़ाए जाने से निरूसंदेह किसानों के लिए खुश खबरी है मगर राजस्थान में मानसून की बेरूखी ने अभी चिंता की लकीरे खिंच रखी है। किसान कर्ज लेकर खाद्य.बीज खरीद के बाद जमीन में बीज डाल देगा पर यदि बरसात नहीं हुई तो उसके सपने अधुरे रह जाऐंगे। सरकार का दावा है कि पूर्वी राजस्थान में बरसात के बाद खरीफ की फसल की बुवाई युद्व स्तर पर चल रही है।

इनका कहना

किसानों को लाभ देने के लिए सरकार हरसंभव प्रयासरत हैए खरीफ 2018.19 में बाजरा व दलहन फसलों को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने 1ण्59 लाख हेक्टेयर भूमि में फसल बुवाई का टारगेट रखा हैए और पहले ही सप्ताह तक करीब 26 लाख भूमि में बीज डाल दिए गए है। सरकार ने बीज व खाद्य के लिए अतिरिक्त भण्डारण कर रखा है इस लिए किसानों को चिंता करने की जरूरत नहीं है।
डॉ प्रभू लाल सैनी- कृषि मंत्री राजस्थान सरकार।

Web Title : Increased trend on farmers' bumper crop after minimum value increase