भारत को नेटवेस्ट ट्रॉफी जिताने वाले कैफ ने क्रिकेट को कहा अलविदा, ‘इस बात’ का हमेशा रहेगा मलाल

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट टीम के सर्वश्रेष्ठ फील्डरों में शुमार रहे निचले क्रम के उम्दा बल्लेबाज मोहम्मद कैफ ने भारत के लिए आखिरी मैच खेलने के करीब 12 साल बाद आज सभी तरह के प्रतिस्पर्धी क्रिकेट को अलविदा कह दिया. सैंतीस बरस के कैफ ने 13 टेस्ट, 125 वनडे खेले थे और उन्हें लाडर्स पर 2002 में नेटवेस्ट ट्राफी फाइनल में 87 रन की मैच जिताने वाली पारी के लिए जाना जाता है.कैफ ने 13 टेस्ट में 32 की औसत से 2753 रन बनाए. वहीं 125 वनडे में उनका औसत 32 रहा. कैफ हिंदी क्रिकेट कमेंटेटर के रूप में कैरियर की दूसरी पारी शुरू कर चुके हैं. वैसे इस पूर्व क्रिकेटर ने वीरवार को संन्यास लिया, तो इसके पीछे बहुत ही खास वजह रही. लेकिन उन्होंने सोशल मीडिया में लिखे संदेश में उन पलों के बारे में भी लिखा जिसका उन्हें हमेशा मलाल रहेगा. à¤®à¥‹à¤¹à¤®à¥à¤®à¤¦ कैफ ने उसी दिन किया रिटायरमेंट का ऐलान, जिस दिन खेली थी यादगार पारीमोहम्मद कैफ ने साल 2002 के दौरान कानपुर में इंग्लैंड के खिलाफ अपने अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत की थी। उन्होंने भारतीय क्रिकेट टीम की ओर से 125 वनडे मैच खेले और 2,753 रन बनाए। इसमें 2 शतक और 17 अर्धशतक शामिल हैं। उन्होंने टीम की ओर से 13 टेस्ट मैचों में 624 रन बनाए हैं।Mohammad kaif

कैफ ने सोशल मीडिया पर जारी पत्र में कहा कि काश वह भारत के लिए और ज्यादा मैच खेलते. कैफ ने लिखा कि काश ऐसा कोई सिस्टम होता, जो 25 साल के एक अंतर्मुखी लड़के के पास बैठकर उसे यह बताता कि वह विंडीज में मेजबान टीम के खिलाफ अपनी आखिरी सीरीज में 148 नाबाद की पारी खेलने के बाद भी अगली सीरीज के लिए फिर कभी क्यों चयनित नहीं हुआ.

मोहम्मद कैफ ने ट्विटर पर पोस्ट शेयर करते हुए अपने संन्यास को लेकर घोषणा की। उन्होंने भावुक अंदाज में ट्विटर पर लिखा, ‘मैंने इस सपने के साथ क्रिकेट खेलना शुरू किया था कि मैं एक दिन भारतीय टीम की कैप पहनूंगा। मैं बहुत भाग्यशाली हूं कि मैंने अपनी जिंदगी के 190 दिन मैदान में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व करते हुए बिताए। आज मेरे लिए क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लेने का उपयुक्त दिन है। सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद।’भारत को सबसे बड़ी जीत दिलाने वाले क्रिकेटर ने लिया संन्यास

Web Title : Indian cricketer Mohammad Kaif asked cricket, bye bye