बीजेपी में चलेगा गंभीर का बल्ला, बहुत होंगे और भी बदलाव

गौतम गंभीर बीजेपी की कश्ती में बल्ला चलाएंगे... एक रोज गंभीर ने किन्नर रूप क्यों धारण किया.... कितने गंभीर है गौतम....................

देश को 2011 में क्रिकेट वर्ल्ड कप जिताने में अहम भूमिका निभाने वाले क्रिकेटर गौतम गंभीर आज भारतीय जनता पार्टी में हो गए हैं. बीते काफी समय से इसकी अटकलें लगाई जा रही थीं कि वह लोकसभा चुनाव लड़ सकते हैं. अब, इसकी पुष्टि होती दिख रही है.कहा जा रहा है कि कुछ सांसदों के टिकट कट सकते हैं तो कुछ के चुनाव क्षेत्र बदल सकते हैं। पार्टी के संकेतों को माने तो दो से तीन नए चेहरों को टिकट देने की तैयारी है। इनमें एक नाम पूर्व भारतीय क्रिकेटर गौतम गंभीर का भी है।

Image result for गौतम गंभीरकुछ दिन पहले ही लोकसभा चुनाव में भाजपा से टिकट मिलने की अटकलों के बीच गौतम गंभीर  ने कहा कि अभी उन्होंने इस बारे में सोचा नहीं है। उन्होंने कहा, ”पूरी जिंदगी मैं क्रिकेट खेलता रहा। मैंने लोगों से सुना है कि पूर्णकालिक राजनीति इंसान को बदल देती है। मेरी दो छोटी-छोटी बेटियां है और मुझे उनके साथ समय बिताना है। मैंने भी अटकलें सुनी हैं, लेकिन मैं फिलहाल आईपीएल के दौरान स्टार स्पोटर्स पर कमेंट्री कर रहा हूं।”

दरअसल, बीते काफी समय में गौतम गंभीर देश के राजनीतिक मुद्दे और माहौल पर खुले तौर पर अपने विचार रखे हैं. वह हर बार सरकार की नीतियों की आलोचना करते रहे हैं, देशभक्ति के मुद्दे पर खुलकर सामने आते हैं और राष्ट्रवाद की बात करते हैं. गौतम गंभीर ने पार्टी में शामिल होने के बाद कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नीतियों से प्रभावित होकर भाजपा में शामिल हो रहे हैं.

उनके लगातार ऐसे ही बयान और ट्वीट के कारण चर्चाएं थीं कि वह राजनीति में आ सकते हैं. खबरों की मानें तो गौतम गंभीर राजधानी की नई दिल्ली लोकसभा सीट से चुनाव भी लड़ सकते हैं.

                                             किन्नरों से रहा है ख़ास लगाव :Image result for किन्नर लुक गौतम गंभीर किन्नर समाज के प्रति अपना समर्थन जताने के लिए गौतम गंभीर पिछले दिनों अपने माथे पर बिंदी लगाए और दुपट्टा ओढ़े हुए नजर आए थे. इसके अलावा गौतम ने रक्षाबंधन पर भी कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर पोस्ट की थीं, जिसमें वो ट्रांसजेंडर से राखी बंधवाते नजर आए थे.

शहीद के बच्चों की पढ़ाई का खर्चा

गौतम गंभीर सामाजिक सेवा के कार्यों में भी काफी बढ़चढ़ कर आगे सामने आते रहे हैं. छत्तीसगढ़ के सुकमा में जब नक्सली हमला हुआ था, तब उन्होंने 25 शहीद जवानों के बच्चों की पढ़ाई का खर्चा उठाने की बात कही थी. इसके अलावा जम्मू-कश्मीर में भी शहीद हुए पुलिस अफसर अब्दुल राशिद की बेटी की भी शिक्षा का खर्चा उठाने की जिम्मेदारी की बात वह कह चुके हैं.

Web Title : rkk