एक पासवान ने बनवाया ऐतिहासिक जलाशय, आज दुर्दशा का शिकार

एक पासवान का ऐसा सपना जो हमेशा श्रेष्ठ कार्यों की श्रेणी में आता हों... गुलाब सागर का निर्माण जोधपुर के नरेश विजय सिंह जी की पासवान गुलाब राय ने सन 1788 में करवाया था.... इसे बनवाने में 8 वर्ष का समय लगा था.... 

 जोधपुर. लोकसभा चुनाव की चौसर बिछी है लेकिन राजस्थान खोज खबर आपको गणतंत्र की वो तस्वीर बता रहा है जो मतदान के बाद का कड़वा सच है. आज जोधपुर के एक ऐसे जलाशय की बात करेंगे जिसे एक पासवान ने बनवाया था लेकिन आज वो खस्ताहाल है. अगर सरकार की नियत में खोट ना होती तो ये जलाशय परकोटे में आधे जोधपुर को पानी की पूर्ति कर रहा होता.
Image result for गुलाब सागर जोधपुर
किसने बनवाया ये सागर:Image result for पासवान गुलाब राय जोधपुर गुलाब सागर का निर्माण जोधपुर के नरेश विजय सिंह जी की पासवान गुलाब राय ने सन 1788 में करवाया था | इसे बनवाने में 8 वर्ष का समय लगा था| वर्तमान में जो गुलाब सागर दिखाई देता है उसका निर्माण दो भागो में हुवा था| गुलाब सागर में पुल के दूसरी तरफ एक  छोटा जलाशय  विभक्त रूप से दिखाई पड़ता है उसे गुलाब सागर का बच्चा कहते है और कहा जाता है की उसका निर्माण गुलाब राय के पुत्र शेर सिंह की स्मृति में 1835 में करवाया गया था| बच्चा जलाशय के पीछे गुलाब राय के महल है जिसके झरोखो में बड़ी सुन्दर नक्काशी का काम किया हुवा है और दीवार पर बड़ी सुन्दर चित्रकारी की गई है.

गुलाब सागर के दायी और लाल बाबा का बड़ा भव्य वैष्णव मंदिर है जिसके चारो कोनो में सुन्दर से झरोखों का निर्माण किया हुवा है| लाल बावा के मंदिर के पास में नाथ सम्प्रदाय के साधुओ का मंदिर है जिसे रिद्धराय जी का मंदिर कहते है जिसमे वर्तमान महंत सूरजनाथ जी से नाथो के इतिहास के बारे में काफी कुछ जाना जा सकता है|गुलाब सागर के बायीं और जोधपुर नरेश मान सिंह जी की भगवान् राम की अनन्य भक्त भटियानी रानी प्रताप कुंवरी द्वारा महाराज के स्वर्गवास के बाद चंद्रग्रहण के अवसर पर दान हेतु बनवाया हुवा राम मंदिर है जिसे रानी ने निरंजनी सम्प्रदाय के महंत मोतीराम को भेट कर दिया था किन्तु निर्माण के बाद ही वो मंदिर जमीन में धंस गया था और आज भी उसे धंसा हुवा मंदिर कहते है.Related image

जलभरण की रही बेहतरीन व्यवस्था: आप ये जानकर हैरान रह जायेंगे कि गुलाब सागर के जलभरण के लिए नहर की व्यवस्था की गई थी जो पहाड़ों से बरसती पानी को बहाकर यहां तक ले आती. जोधपुर के नरेश जसवंत सिंह जी के छोटे भाई और मारवाड़ के तत्कालीन प्रधान मंत्री सर प्रताप ने अंग्रेज इन्जीनियर डब्ल्यू होम्स द्वारा बालसमंद झील से नहरों का निर्माण करवाया था जिसके कारण गुलाब सागर में पर्याप्त जल रहता था. अब नहर ज्यादातर गंदे नाले में और बाकि जमींदोज हो गई.Image result for गुलाब सागर जोधपुर

यहाँ बनी थी अनेक योजनायें: आप ये जानकर हैरान रह जायेंगे कि हर सरकार ने यहाँ सौन्दर्य करण के लिये योजनायें बनाई. पैसा लगाया लेकिन नतीजा आपके सामने है. कोंग्रेस की पिछली सरकार ने यहाँ के पानी को उम्मेद उद्यान तक लाने की बात भी कही लेकिन तस्वीर आपके सामने है. काश कोई एक सरकार उम्मीदों को पंख लगाती तो जोधपुर के इस जलाशय के ऐसे हालात न होते.

Web Title : rkk