आजम खान पर केस दर्ज, जयाप्रदा पर की आपतिजनक टिप्पणी

नीचे का खाकी रंग आजम पर भारी पड़ गया...कहते है भी कि बोलते वक़्त सावधानी रखिये... वरना लेने के देने पड़ जाते है... अब आजम पर ऐसी ही गुजरने वाली है .....

आजम खान की जुबान से निकली बात अब उन्ही के लिये गले की फंस बन गई है. समाजवादी पार्टी के रामपुर से उम्मीदवार आजम खान के बयान पर विवाद बढ़ता जा रहा है. बीजेपी नेता जया प्रदा को लेकर उनके द्वारा की गई अमर्यादित टिप्पणी पर अब केस दर्ज हो गया है. आजम के बयान पर संज्ञान लेते हुए क्षेत्रीय मजिस्ट्रेट ने उनके खिलाफ तहरीर दे मुकदमा दर्ज कराया.

 ये था बयान: रविवार को आजम खान ने जनसभा के दौरान कहा था. – ‘जिसको हम ऊंगली पकड़कर रामपुर लाए, आपने 10 साल जिससे अपना प्रतिनिधित्व कराया… उनकी असलियत समझने में आपको 17 बरस लगे, मैं 17 दिन में पहचान गया कि इनके नीचे का अंडरवियर खाकी रंग का है.’ हालांकि, उन्होंने इस बयान में जयाप्रदा का नाम नहीं लिया था. लेकिन उनका यह इशारा जयाप्रदा की ओर था.

आजम खान ने सारी हदों को लांगते हुए जया प्रदा के खिलाफ बयान दिया, जो उनकी मुश्किलें बढ़ा रहा है. इस केस के अलावा राष्ट्रीय महिला आयोग ने भी आजम खान को नोटिस भेजा है. राष्ट्रीय महिला आयोग चुनाव आयोग को भी चिट्ठी लिख उनपर कार्रवाई की अपील करेगा. महिला आयोग की प्रमुख रेखा शर्मा ने अखिलेश यादव की चुप्पी पर भी सवाल खड़े किए हैं. Image result for आजम खान '

अब बदली जुबान: समाचार एजेंसी एएनआई से आजम खान ने कहा कि उन्होंने अपने बयान में किसी का नाम नहीं लिया है. उन्होंने कहा कि अगर मैं दोषी साबित हो जाता हूं तो मैं लोकसभा चुनाव 2019 की उम्मीदवारी से अपना नाम वापस ले लूंगा और चुनाव नहीं लड़ूंगा. अपने बयान पर सफाई देते हुए उन्होंने कहा कि मैंने किसी का नाम नहीं लिया है. मैं जानता हूं कि मुझे क्या कहना चाहिए. अगर कोई साबित कर देता है कि मैंने कहीं, किसी का नाम लिया है, किसी का अपमान किया है, तो मैं चुनाव नहीं लड़ूंगा.

जया ने दिया जवाब:  जया प्रदा ने आजम खान पर कसा तंज, कहा- मैं तो आपको भाई मानती थी लेकिन आप तो....

उत्तर प्रदेश के रामपुर से बीजेपी उम्मीदवार जया प्रदा ने समाजवादी पार्टी उम्मीदवार आजम खान पर तंज कसा है. उन्होंने कहा कि एक रैली के दौरान कहा कि मैं तो आजम खान को अपना भाई मानती थी लेकिन वह मुझे बहन बुलाने के साथ मेरे बीमार होने की भी कामना करते रहे. जया प्रदा ने आगे कहा कि क्या आपका भाई आपको नाचने वाली के तौर पर देख सकता है. यही वजह थी कि मैं रामपुर छोड़ने चाहती थी. बता दें कि जया प्रदा ने 2004 और 2009 चुनाव में समाजवादी पार्टी के टिकट पर जीत दर्ज की थी. उन्हें 2010 में पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल रहने और अमर सिंह के संपर्क में रहने की वहज से पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था.  ध्यान हो कि आजम खान ने कुछ समय पहले जया प्रदा को एक नाचने वाली बताया था.

Web Title : azam khan on jayapradah