एक बार फिर शेखावत की बारी, क्या फिर खिलेगा कमल ?

कौन है जोधपुर से बीजेपी के दावेदार ... क्या कमल के खिलने के साथ पुराने चेहरे ही बनेंगे दावेदार.... कोंग्रेस की फिरकी का किसे है इंतजार ....

राजस्थान खोज खबर: अपने अपने दावे, अपना अपना दम.  लेकिन बीजेपी में एक सख्स है जो अपने आले अंदाज से हर किसी को मोहपाश में बाँध रखा है. और वो है केंद्र में मोदी सरकार में मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत. पिछले लोकसभा चुनावों में सिंह का नाम अचानक सामने आया तो किसी ने नहीं सोचा था कि इतने सरल व्यक्तित्व के धनी शेखावत बीजेपी में एकदम से कद बढेगा. चूँकि अब फिर से रणक्षेत्र में चुनावी सरगर्मियां तेज हुई तो शेखावत का नाम फिर से लोगों की जुबान पर है.Image result for जोधपुर

क्या फिर खिलेगा कमल: कोंग्रेस बीजेपी के बीच तनातनी जोरों पर है लेकिन जोधपुर में बीजेपी के लिए लोकसभा चुनाव में कौन रहेगा बाजीगर ? ये सवाल सामने आता है तो बहरहाल यहाँ से सांसद गजेन्द्र सिंह शेखावत का नाम उपरी पायदान पर है. ऐसे में कोंग्रेस इस माथापच्ची में उलझी है कि आखिर इस बार बीजेपी का तोड़ कौन हो सकता है. ये बात अलग है कि अभी तक ऐसा कोइ नाम कोंग्रेस के पास नहीं है जो बीजेपी को सीधे मात देने की तैयारी में हों. ऐसे में मोदी का जलवा जोधपुर में बीजेपी के लिये फायदेमंद रहेगा और शेखावत का आना फिर से तय माना जा रहा है.

                                         कोलेज टाइम से ही है राजनीति में सक्रीय: Image result for गजेन्द्र सिंह शेखावतशेखावत बीजेपी में इसलिए भी पसंदीदा उम्मीदवार बने है क्योंकि सिंह कोलेज राजनीति में ही सक्रीय रहे और अपना दम दिखाया था. इतना ही नहीं पिछले लोकसभा चुनावों में इनकी उम्मीदवारी ने एकाएक लोगों को चौंकाया भी लेकिन परिणाम आये तो विरोधी चारों खाने चित हुए. अब देखना ये होगा कि क्या बीजेपी सिंह को फिर से अपना उमीदवार बनती है या फिर कोई दूसरा चेहरा जनता के सामने आएगा.

ये है फेहरिश्त: नारायण पंचारिया,बाबु सिंह राठौड़, जसवंत सिंह विश्नोई सरीखे नाम है जो बीजेपी के लिए नये चेहरे बन सकते है. इनके पास राजनीति का काफी अनुभव भी है लेकिन बीजेपी में अपना कद बढाने वाले शेखावत अभी तक सबसे भरोसेमंद उम्मीदवार बने हुए है.

                                                            कोंग्रेस की फिरकी का बीजेपी को इंतजार                        Image result for जोधपुर कोंग्रेसइधर कोंग्रेस अपने मंथन में जुटी है. लेकिन जो माहौल बना हुआ है उससे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पुत्रमोह में मुनाफा नजर आ रहा है. अभी तक सूत्रों की नजर में वैभव को मैदान में उतारना बीजेपी के लिए बड़ी मदद साबित होगी. दूसरा नाम पूर्व महापौर रामेशवर दाधीच का सामने आ रहा है जो बीजेपी को कड़ी टक्कर देने में लिहाज से मजबूत दावेदार भी है लेकिन विधानसभा चुनावों में अशोक गहलोत की अनदेखी पर गौर करें तो बहरहाल कोंग्रेस की उम्मीदवारी के लिए इंतजार ही करना मुनासिब होगा.

Web Title : rkk