मोदी की मालदीव यात्रा से चीन की चीनी होगी कम, पाक को भी चेतावनी

मालदीव के युवा ISIS से काफी प्रभावित बताए जाते हैं. 2016 में मालदीव से 250 से ज्यादा युवा ISIS में शामिल होने गए. इराक-सीरिया में लड़ते हुए मालदीव के कई युवा मारे गए. ISIS से जुड़े कुछ युवा वापस लौटे और मालदीव में साइबर हब बनाया. अब मोदी का मालदीव से आतंक पर प्रहार ....

दोबारा शपथ लेने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी पहली विदेश यात्रा पर शनिवार को मालदीव पहुंचे. मालदीव ने भी प्रधानमंत्री मोदी को विदेशी शख़्सियतों को दिए जाने वाले सर्वोच्च सम्मान ‘रूल ऑफ़ निशान इज़्ज़ुद्दीन’ से सम्मानित किया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मोहम्मद सोलिह (ट्विटर)

मोदी ने कहा ये दोस्ती का सम्मान: पीएम मोदी ने कहा मालदीव ने मुझे अपने देश का सर्वोच्च सम्मान दिया है और मैंने विनम्रता से इसे स्वीकार किया. यह सिर्फ मेरा सम्मान नहीं है बल्कि दोनों देशों की दोस्ती का सम्मान है.

पीएम मोदी ने मालदीव के इस दौरे से दूसरे कार्यकाल में अपनी पहली यात्रा की औपचारिकता नहीं पूरी की है बल्कि उन्होंने अपने उन दो पड़ोसी देशों को भी साध लिया है जो सामरिक और आर्थिक तौर पर भारत के बड़े प्रतिद्वंदी हैं. गलगोटिया यूनिवर्सिटी में राजनीति विभाग के प्रमुख डॉ. श्रीश पाठक कहते हैं कि भारत सरकार ने सही दिशा में कदम बढ़ाया है.

Image result for मालद्वीप में मोदी

प्रधानमंत्री मोदी द्वारा भी अपनी पहली विदेश यात्रा के रूप में मालदीव को चुनना इस बात का दृढ़ संकेत है कि हिंद महासागर में चीनी फुटप्रिंट को किसी भी हाल बढ़ने नहीं देना है. मालदीव से अच्छे रिश्ते रखना भारत के लिए बेहद अहम है. क्योंकि चीन मालदीव के रास्ते भारत के नज़दीक आने के जुगाड़ में है. चीन लगातार मालदीव पर अपना प्रभाव बना रहा है.

Web Title : rkk