यूथ ओलंपिक में 15 साल के जेरेमी ने भारत को पहला गोल्ड दिलाकर रचा इतिहास

नई दिल्ली: अर्जेंटीना में चल रहे यूथ ओलिंपिक में आखिरकार भारत का गोल्ड जीतने का इंतजार खत्म हो गया और 3 सिल्वर मेडल जीतने के बाद भारत को पहला गोल्ड हासिल हुआ। भारत को ये गोल्ड जेरेमी लालरीनुंगा ने वेटलिफ्टिंग में दिलाया। लालरीनुंगा ने अपनी आखिरी कोशिश में 150 किलो ग्राम भार उठाकर भारत को पहला गोल्ड मेडल जिता दिया और यूथ ओलंपिक में भारत को पहला गोल्ड मेडल जिताकर इतिहास रच दिया। à¤œà¥‡à¤°à¥‡à¤®à¥€ लालरिननुगा ने यूथ ओलंपिक में भारत को पहला स्वर्ण पदक दिलाया

साथ ही इस बार के यूथ ओलंपिक में भारत ने अपना बेस्ट प्रदर्शन किया है और अब तक के इतिहास में सबसे ज्यादा मेडल जीते हैं। इससे पहले यूथ ओलंपिक में भारत का बेस्ट 2 मेडल थे जो कि उसने साल 2014 में चीन में हासिल किए थे। लेकिन इस बार भारत ने इतिहास बदलते हुए दो दिन में 3 सिल्वर और एक गोल्ड हासिल कर लिया है।

ग्रुप ए में पुरुषों के 62 किलो ग्राम वर्ग में जेरेमी ने स्नैच में 120 और 124 किलो ग्राम और क्लीन एंड जर्क में 142, 150 किलो ग्राम वजन उठाकर भारत को गोल्ड जिता दिया। 15 साल के जेरेमी के लिए ये किसी सुनहरे सपने की तरह था। तुर्की के टॉपतस कानेर ने सिल्वर और कोलंबिया के जोस मंजारेस ने ब्रॉन्ज पर कब्जा जमाया।

गौरतलब है कि यूथ ओलिंपिक गेम्स 2018 में भारत अब तक 4 मेडल नाम कर चुका है, जिसमें 1 गोल्ड और 3 सिल्वर शामिल हैं। भारत की ओर से तुषार माने और मेहुली घोष 10 मीटर एयर राइफल इवेंट में सिल्‍वर मेडल जीत चुके हैं। वहीं तबाबी देवी थांगजाम ने जूडो में सिल्वर मेडल अपने नाम किया।

Web Title : Juryyi, 15 years old at the Youth Olympics, created history by giving India the first gold