राजस्थान: रामगढ़ विधानसभा सीट से बसपा प्रत्याशी लक्ष्मण सिंह चौधरी का निधन, टल सकता है मतदान

जयपुर: राजस्थान चुनावो के लिए जहाँ सभी दलों ने जोर लगा रखा है और मतदान के लिए हर एक में उत्साह है तो वही एक बुरी खबर आई है जिसने हर किसी को झकझोर कर रख दिया है. चुनाव से ठीक आज 7 दिन पहले अलवर की रामगढ़ विधानसभा सीट से बसपा के उम्मीदवार लक्ष्मण सिंह चौधरी का आकस्मिक निधन हो गया. वे 62 साल के थे। अलवर की रामगढ़ विधानसभा सीट से बसपा के उम्मीदवार चौधरी एनईबी में रहते थे. बताया जाता है कि गुरुवार सुबह दिल का दौरा पड़ने से अलवर में उनका निधन हो गया. लक्ष्मण सिंह चौधरी के निधन के बाद रामगढ़ विधानसभा सीट पर चुनाव स्थगित किया जा सकता है.

इधर रामगढ़ विधानसभा सीट से बसपा उम्मीदवार लक्ष्मण सिंह की मौत के बाद एक बार फिर विधानसभा भवन के अपशकुनी होने की चर्चाएं तेज हो गई हैं. राजस्थान विधानसभा को लेकर अब तक कहा जाता रहा है कि इस भवन में प्रेत आत्माओं का साया है और इसी वजह से कभी भी 200 विधायक एक साथ सदन में नहीं रहे. इसी साल सरकारी मुख्य सचेतक कालूलाल गुर्जर ने इस मसले पर कहा था कि विधानसभा अपशकुनी है, विधानसभा में आत्माएं घूम रही हैं.

मतदान असंभव

बसपा प्रत्याशी के आकस्मिक निधन के कारण राजस्थान में अब 200 की जगह 199 सीटों पर ही मतदान हो सकते हैं. लक्ष्मण सिंह चौधरी के निधन के बाद जिला निर्वाचन अधिकारी ने रिपोर्ट मंगवाई है जो चुनाव आयोग को भेजी जाएगी. रामगढ़ सीट से फजरू खां के दो बार लगातार चुनाव हारने के बाद बसपा ने लक्ष्मण सिंह चौधरी को इस सीट से उम्मीदवार बनाया था.

लक्ष्मण सिंह चौधरी के दो बेटे हैं- विजय सिंह और महेंद्र सिंह। चौधरी का गांव सूरजगढ़ लक्ष्मणगढ़ तहसील अंतर्गत आता है। बसपा प्रत्याशी के निधन के बाद यहां होने वाले मतदान को लेकर अंतिम फैसला चुनाव आयोग करेगा। बता दे कि रामगढ़ विधानसभा सीट हमेशा से चर्चा में रही है। पहले विधायक ज्ञानदेच आहूजा के बयानों के कारण, उसके बाद मॉब लिंचिंग के कारण रामगढ़ सुर्खियों में रहा था। अब राजस्थान की इस हॉट सीट पर बसपा प्रत्याशी का निधन होने के बाद यहां राजस्थान की अन्य सीटों से अलग चुनाव होने की संभावना है। बता दें कि राजस्थान की 200 विधानसभा सीटों पर 7 दिसंबर को मतदान होना है।

Web Title : Laxman Singh Chaudhary passes away from Ramgarh assembly constituency