रेणुकाजी बहुउद्देशीय बांध परियोजना पर MoU, राजस्थान समेत 6 राज्यों के बीच हस्ताक्षर

रेणुकाजी बहुउद्देशीय बांध परियोजना के कार्यान्वयन हेतु 6 राज्यों के बीच दिल्ली में समझौता हुआ. इस समझौते पर हिमाचल समेत हरियाणा, दिल्ली, उत्तराखंड, राजस्थान और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्रियों ने हस्ताक्षर किए. ये बहुउद्देशीय परियोजना छह राज्यों में आने वाली पेयजल समस्याओं को पूरा करने के लिए तैयार की है. रेणुकाजी बांध बनने से छह राज्यों में पेयजल समस्याओं का काफी हद तक निपटारा होगा.

नई दिल्ली। दिल्ली में आज रेणुकाजी बहुउद्देशीय परियोजना के लिए 6 राज्यों के बीच एमओयू साइन किया गया। इस मौके पर जल संसाधन मंत्री नितिन गडकरी, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत, यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ, उत्तराखंड सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत, हिमाचल प्रदेश सीएम जयराम ठाकुर, दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल, हरियाणा सीएम मनोहरलाल खट्टर सहित राज्य मंत्री अर्जुनराम मेघवाल और डॉ. सत्यपाल सिंह शामिल हुए। इसे 2008 में राष्ट्रीय परियोजना घोषित किया गया था।

बता दें यह बांध हिमाचल के सिरमौर जिले के ददाऊ में बनाया जाएगा। बांध के निर्माण से प्रतिदिन 525 गैलन पानी खर्च होगा। इससे 40  मेगावाट बिजली का भी उत्पादन होगा। बांध का बाकी जल 1994 में किए गए समझौते के अनुरूप अन्य राज्यों में बांटा जाएगा। इस राष्ट्रीय परियोजना से राजस्थान को भी पेयजल में काफी सहायता मिलेगी।

इस परियोजना की कुल लागत 4597 करोड़ रुपये है, जिसमें 3893 करोड़ केंद्र वहन करेगा। बाकी राशि 1994 के समझौते के अनुरूप अन्य 6 राज्य वहन करेंगे। राजस्थान 9.3% जल खर्च वहन करेगा। रेणुकाजी बांध परियोजना एमओयू साइन करने के बाद राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि हरियाणा हमेशा राजस्थान के हिस्से के पानी को रोक देता है ‘इसके लिए हरियाणा के मुख्यमंत्री को पत्र भी लिखेंगे’ उन्होंने कहा कि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से भी अनुरोध करेंगे कि ..वह प्रदेश के हिस्से का पानी दिलाने के लिए हरियाणा पर दबाव बनाएं।’

Web Title : MoU on Renukasi Multipurpose Dam Project