नई दिल्ली । फ्रॉड के बढ़ते मामलों को देखते हुए देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक ने अपने ग्राहकों को सतर्क किया है। बैंक ने अपने 42 करोड़ से ज्यादा ग्राहकों को आगाह किया है कि वे अपना पैसा किसी भी फेक अकाउंट में निवेश न करें। एसबीआई ने हालही में ट्वीट कर कहा है कि अपने सोशल मीडिया अकाउंट के माध्यम से बैंकिंग अधिकारियों के साथ टैग और बातचीत करने से पहले हमेशा वेरिफाइड साइन को देखें। बैंक ने अपने ग्राहकों को धोखाधड़ी से बचने की सलाह दी है। बैंक की ओर से कहा गया है कि ग्राहक अपना समय और पैसा सोशल मीडिया पर मौजूद सैकड़ों फेक अकाउंट में निवेश करने से बचें। ग्राहक केवल और केवल एसबीआई के वेरिफाइड और आॅफिशियल हैंडल के टैग को ही फॉलो करें। वेरिफाइड और आॅफिशियल टैग के जरिए ही जिम्मेदार बैंकिंग अधिकारियों से बात करें। बैंक की ओर से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर एसबीआई के वेरिफाइड और आॅफिशियल हैंडल शेयर किए गए हैं। बैंक की ओर से कहा गया है किए फेक सोशल मीडिया अकाउंट बनाकर कुछ लोग आपकी जमा पूंजी हड़प सकते हैं। इसलिए ग्राहक के लिए वित्तीय लेन-देन करते समय फेक सोशल मीडिया अकाउंट को पहचानना महत्वपूर्ण है। एसबीआई ने बताया है कि अगर आप किसी भी तरह के अनधिकृत इलेक्ट्रॉनिक लेन-देन का शिकार हुए हैं तो फौरन टोल फ्री नंबरों पर सूचित करें। बैंक की ओर से 1800 11 2211 और 1800 425 3800 दो टोल फ्री नंबर जारी किए हैं।