जोधपुर: मानव तस्करी विरोधी यूनिट की कार्रवाही, चाय की से दो बाल श्रमिकों को करवाया मुक्त

जोधपुर: जोधपुर सहित पूरे प्रदेश में बाल श्रमिक काम करते देखे जाते हैं जिन्हें रोकने के लिए सरकार द्वारा भी कई अथक प्रयास भी किए गए जा रहे, लेकिन अभी तक 18 साल से कम बच्चों से काम करवाने का सिलसिला जारी है तो वहीं जनता में बाल श्रमिक को से श्रम करवाने को लेकर अभी तक जागरूकता देखने को नहीं मिली है आज भी कई बच्चे सड़कों पर काम कर रहे हैं और कहीं बच्चे चाय व किराने की दुकानों पर व घरो की साफ-सफाई और अन्य जगहों पर काम करते दिखाई दे रहे हैं इसी के चलते मानव तस्करी विरोधी यूनिट पश्चिम ने मंगलवार को एक कार्रवाही करते हुए चाय की दुकान से दो बाल श्रमिकों को मुक्त करवाया है। वहीं ढाबे के मालिक के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

मानव तस्करी विरोधी यूनिट पश्चिम के प्रभारी पुलिस निरीक्षक इन्द्रचन्द मीणा ने बताया कि भगत की कोठी स्थित संगम टी स्टाल में नाबालिग बच्चों से बालश्रम करवाए जाने की सूचना मिली थी। इस पर उन्होंने मय जाब्ता हैड कांस्टेबल भंवराराम व दमाराम तथा कांस्टेबल रामखिलाड़ी व मदनलाल और सरकारी वाहन चालक बजरंगसिह के साथ मिलकर संगम टी स्टाल पर दबिश देकर वहां से दो नाबालिग बच्चों को बाल श्रम से मुक्त करवाया। वे दोनों कोटा के रहने वाले है। दोनों नाबालिग बच्चों को संरक्षण में लेकर बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश कर बाल संरक्षण गृह में दाखिल करवाया गया। वहीं टी स्टाल के मालिक मनीष के मौके पर नहीं मिलने पर उसके विरूद्ध शास्त्रीनगर पुलिस थाना में धारा 374 भादसं व 79 जेजे एक्ट 2015 के तहत आपराधिक प्रकरण दर्ज करवाया गया।

Web Title : Operation of anti-trafficking unit, free of two child laborers from tea