आम चुनाव 2019 से पहले विपक्षी एकता को झटका, महागठबंधन का हिस्सा नहीं बनेंगे केजरीवाल

-केजरीवाल का बड़ा ऐलान- अकेले लड़ेंगे 2019 का चुनाव
-राज्यसभा उपसभापति चुनाव के नतीजे के बाद विपक्षी एकता बिखरती नजर आ रही है। आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने महागठबंधन के मुद्दे पर अलग राग अलापा है।

नई दिल्ली: 2019 के आम चुनाव से पहले एनडीए का सामना करने के लिए महागठबंधन बनाने की कवायद जारी है। एनडीए के खिलाफ महागठबंधन जमीन पर साकार रूप में आएगा या नहीं इस सवाल का जवाब भविष्य के गर्भ में है। लेकिन आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि उनकी पार्टी 2019 का आम चुनाव अकेले लड़ेगी। केजरीवाल के इस तरह के बयान के बाद अभी दूसरे विपक्षी दलों की प्रतिक्रिया नहीं आई है। लेकिन विपक्षी एकता पर सवालिया निशान लग गया है। à¤¦à¤¿à¤²à¥à¤²à¥€ के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवालहरियाणा के जींद में मीडिया से बात करते हुए अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जो दल महागठबंधन बनाने की कवायद में जुटे हुए हैं उनका देश के विकास में योगदान ही कितना है। उन्होंने कहा कि समान विचारों को एक साथ लाने की बात करना और उसे कार्यरूप में बदलना दो अलग अलग चीज होती है। अब ऐसे में सवाल है कि आखिर अरविंद केजरीवाल के रुख में ये बदलाव क्यों आया है। इसे समझने के लिए राज्यसभा उपसभापति चुनाव पर ध्यान देना होगा।

गुरुवार को राज्यसभा उपसभापति के चुनाव में आम आदमी पार्टी ने हिस्सा नहीं लिया था। दरअसल बुधवार को आप सांसद संजय सिंह ने कहा था कि कांग्रेस पार्टी ने अपने उम्मीदवार के समर्थन में किसी तरह की बात नहीं की थी। ऐसे में उनकी पार्टी कैसे खुद आगे बढ़कर समर्थन देती। संजय सिंह ने कहा था कि जब हम बड़े लक्ष्य की ओर आगे बढ़ना चाहते हैं तो मिलजुल कर आगे बढ़ना ही बेहतर विकल्प होता है।

बताया जा रहा है कि कांग्रेस के इस रुख से आम आदमी पार्टी बेहद नाराज थी। अपने ट्वीट में संजय सिंह ने लिखा था कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने अपने उम्मीदवार हरिवंश के समर्थन में मत देने की अपील की थी। लेकिन बीजेपी के मुद्दे पर पार्टी का रुख पहले से ही साफ है कि वो सांप्रदायिक पार्टी के साथ नहीं जा सकती है। वहीं जानकारों का कहना है कि अगर आप एच डी कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह को देखें तो अरविंद केजरीवाल ने कांग्रेस और दूसरे विपक्षी दलों के नेताओं के साथ मंच साझा किया। इसके बाद मुजफ्फरपुर शेल्टर हाउस के मुद्दे पर जब आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने दिल्ली के जंतर मंतर पर प्रदर्शन किया तो केजरीवाल उसमें शामिल हुए थे। इससे ये संकेत जा रहे थे कि बीजेपी के खिलाफ ये दल एक साथ 2019 में साझा ताकत का प्रदर्शन करेंगे।

Web Title : Opposition unity before the general elections of 2019