पीएम मोदी ने किया पाली की बबली देवी व शांती देवी से सीधा संवाद, दोनों महिलाएं महिला सशक्तिकरण के लिए पहचानी जाती है देशभर में

पाली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीसी के जरिये पाली जिले के स्वंय सहायता समूह की महिलाओं से सांसद सेवा केन्द्र में संवाद कर महिलाओ के आर्थिक बदलाव की कहानी सुन उन्हें बधाई दी साथ ही अन्य महिलाओं से भी ऐसे समूहों से जुड़ अपना कारोबार बढ़ाने की बात कही. एक वक्त था जब आदिवासी महिलाएं अपनी दिहाडी मजदूरी के लिए ही पहचानी जाती थी। लोगों के दिमाग में भी आदिवासी क्षे़त्र की महिला कहते ही अशिक्षा का चहरा पहले नजर आता था। लेकिन, अब यहा की महिलाओं ने लोगों को अपना नजरीया बदलने को मजबूर कर दिया है। और सशक्तिकरण के माध्यम से स्वयं को इतना मजबूत कर दिया है कि अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी उन्हे उनके कार्यो के लिए नाम से पहचानते है।

बुधवार को ही यही नजारा जिला मुख्यालय पर प्रधानमंत्री के सीधे संवाद कार्यक्रम में नजर आया। मोदी के बाली के आदीवासी क्षेत्र में रहने वाली बबली देवी से उनके संघर्ष की कहानी सूनी। इसके बाद मोदी ने चूडी उधोग के माध्यम से महिलाओ ंको सशक्त करने वाली शांती देवी से उनकी कहानी सूनी। इन दोनों महिलओं की कहानी को सूनकर प्रधानमंत्री मोदी ही नहीं सीधें संवाद में बैठे अधिकारी, अन्य महिला समूह की कार्यकताओं व जनप्रतिनिधि भी प्रभावित हुए।

2 रूपए बिकता था सीताफल, अब हर माह कमाती है 25 हजार से ज्यादा
बाली उपखण्ड के आदिवासी क्षेत्र की बाबली देवी ने बताया कि उसके क्षेत्र अधिकांश सीताफल का फल होता है। और वे उसे दो रुपये किलो बेचते थे। जिससे घर चलाना भी मुश्किल होता था। लेकिन, उदयपुर स्थित महाराणा प्रताप कृषि विश्वविद्यालय के सहयोग से स्वंय समूह सहायता केंद्र बनाया और सीताफल की प्रोसेसिंग यूनिट बनाई। जिससे सीताफल का ज्यूस निकाल प्लस तैयार कर उसे आइसक्रीम व अन्य खाद्य सामग्री के लिए बेचना शुरू किया। जिससे उनको फायदा होने लगा और आज समूह की हर महिला महीने के 25 से 30 हजार रुपये तक कमाती है। पीएम नरेंद्र मोदी ने उनकी यूनिट के बारे में जानकारी ली।

एक से शुरू किया उधोग, आज 150 महिलाओ को दिया रोजगार
प्रधानमंत्री ने बबली देवी के बाद पाली की शांतीदेवी से बात की। शांतीदेवी ने बताया कि घर चलाने के लिए शुरूआत में उन्होने स्वयं के स्तर पर ही चूडी का छोटा काम शुरू किया था। लेकिन, धीरे-धीरे क्षेत्र की महिलाएं रोजगार के लिए उनसे जुडती चली गई। आज शांतीदेवी के साथ कार्य करने के लिए 150 महिलओं का समूह है। साथ ही उनकी बनाई चूडियां देश के 12 बडे शहरों में एक्सपोर्ट होती है।इसके बाद पीएम मोदी ने दोनों की तारीफ करते हुए बधाई दी एवम उनके काम की प्रशंसा की। इसके बाद पीपी चैधरी की और से स्वयं सहायता समूह की ममहिलाओ को सोलर लाइट दी और बाद में उनके साथ बातचीत भी की।

उन्होंने बाबली और शांति देवी के किए कार्यो की प्रसंशा की। इस दौरान प्रशाशन पूरी तरह से मुस्तेद रहा। वीसी को लेकर भी प्रशाशन ने पूरी तैयारी कर रखी थी। इस दौरान जिले की स्वंय सहायता समुह से जुडी बडी संख्या में महिलाए केन्द्रिय राज्य मंत्री पीपी चैधरी जिला कलेक्टर सुधीर कुमार शर्मा अति जिला कलेक्टर भागिरथ विश्नोई सभापति महेन्द्र बोहरा समेत कई लोग मौजुद रही

Web Title : PM Modi made a direct dialogue with Pali's Babli Devi and Shanti Devi