केंद्रीय विद्यालयों में पार्थनाएं कही हिंदुत्व को बढ़ावा तो नहीं, SC ने केंद्र से मांगा जवाब

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट बुधवार को केंद्र सरकार को नोटिस जारी करते हुए पूछा है कि कहीं केंद्रीय विद्यालयों में होने वाली प्रार्थनाएं हिंदू धर्म को बढ़ावा तो नहीं दे रही है. सर्वोच्च न्यायालय ने यह नोटिस एक वकील की तरफ से इन प्रार्थनाओं को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई के बाद जारी किया है. याचिका में कहा गया है कि सरकारी अनुदान पर चलने वाली स्कूल में किसी खास धर्म का प्रचार उचित नहीं है.

उच्चतम न्यायालय ने इस याचिका को स्वीकार करते हुए केंद्र को जारी किए नोटिस में पूछा है कि केंद्रीय विद्यालयों में होने वाली प्रार्थनाएं कहीं हिंदुत्व को बढ़ावा तो नहीं दे रही है.  सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि यह एक गंभीर संवैधानिक मामला है. बता दें कि केंद्र सरकार द्वार संचालित देशभर में लगभग एक हजार से ज्यादा केंद्रीय विद्यालय हैं. मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अधीन संचालित किया जाने वाला केंद्रीय विद्यालय संगठन विश्वभर में स्कूलों की चलाई जाने वाली सबसे बड़ी चेन में से एक है.

आपको बता दें केंद्रीय विद्यालयों में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं की संख्या तकरीबन 11 लाख है. 2015 के आंकड़़ों के पर गौर किया जाये तो पता चलता है कि  देशभर में करीब 1125 केंद्रीय विद्यालय हैं वहीं विदेश में इनकी संख्या तीन है.

Web Title : Promoters in central schools do not promote any Hindutva