आरक्षण की मांग को लेकर रेल पटरियों पर गुर्जरों का धरना रविवार को भी जारी, बैंसला की गहलोत सरकार को चेतावनी

राजस्थान में चल रहे गुर्जर आंदोलन के कारण रेल यात्रियों की भीड़ बढ़ती जा रही है. जिस कारण पश्चिमी रेलवे ने विशेष इंतजाम किए हैं. राजस्थान के साधोपुर- बयाना के बीच जारी इस आंदोलन के बाद रेलवे ने बांद्रा टर्मिनल से लेकर सवाई माधोपुर के बीच एक विशेष ट्रेन का परिचालन शुरू किया है.

जयपुर: राजस्थान में एक बार फिर गुर्जर आंदोलन शुरू हो चुका है. सवाई माधोपुर में गुर्जर समुदाय और आंदोलन का नेतृत्व कर रहे गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला ने कहा कि जब तक हम 5 फीसदी आरक्षण नहीं मिल जाता है तब तक हम यहां रहेंगे. बीते शनिवार को पांच फीसदी आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जरों ने मलारना डूंगर में दिल्ली-मुबंई रेलवे ट्रैक को बाधित कर दिया है.आरक्षण की मांग को लेकर रेल पटरियों पर गुर्जरों का धरना रविवार को भी जारी, ट्रेनें प्रभावित

CPRO पश्चिम मध्य रेलवे ने बताया कि सवाई माधोपुर-बयाना खंड (मलारना-निमोडा खंड ) के बीच गुर्जर आंदोलन के कारण दस ट्रेनों को डायवर्ट / शॉर्ट टर्मिनेट या रद्द किया गया है. सवाई माधोपुर-बयाना के बीच गुर्जर आंदोलन के कारण भीड़ ज्यादा हो गई है. पश्चिम रेलवे बांद्रा टर्मिनल से सवाई माधोपुर के लिए 10,11,12,13 और 14 फरवरी को विशेष ट्रेन चलाएगा. यह 10,11,12,13 और 14 फरवरी को बांद्रा के लिए 13.45 बजे एसडब्ल्यूएम से रवाना होगी.

राज्य सरकार के प्रतिनिधिमंडल ने की थी बातचीत

शनिवार को गहलोत सरकार का 3 सद्स्यीय प्रतिनिधिमंड़ल राज्य में मंत्री विश्वेंद्र सिंह के सवाई माधोपुर पहुंचा था. जिसने आंदोनकारियों से वार्ता करने का प्रयास भी किया. राज्य सरकार के इस प्रतिनिधिमंडल के साथ गुर्जर समुदाय के प्रतिनिधियों की बातचीत में कमेटी की ओर से एक प्रतिनिधिमंडल बनाकर बातचीत करने की बात कही गई थी.

गहलोत ने केंद्र की पाले में फेंकी थी गेंद 

राजस्थान के सीएम मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को कहा था कि पिछली बार भी उनकी अधिकतर मांगे राज्य सरकार द्वारा मानी गई थी. इस बार भी उनसे बातचीत करने के लिए तीन मंत्रियों की कमेटी बना दी गई है. लेकिन गुर्जरों की जो मांगे हैं उनका ताल्लुक केंद्र सरकार से है. मांग संविधान संशोधन करके ही पूरी हो सकती है, यह बात गुर्जर नेता बैंसला को समझना चाहिए. इसलिए उनका आंदोलन करना समझ से परे है.’

इस मुद्दे पर राज्य सरकार द्वारा गठित की गई कमेटी के सदस्य पर्यटन मंत्री विश्वेन्द्र सिंह और भारतीय प्रशासनिक सेवा के वरिष्ठ अधिकारी नीरज के पवन आज गुर्जर नेता किरोडी सिंह बैंसला से सवाईमाधोपुर के मलारना डूंगर की रेल पटरियों पर वार्ता के लिये मिले लेकिन बैंसला अपनी मांग पर अड़े रहे.गुर्जर आरक्षण समिति के संयोजक किरोडी सिंह बैंसला ने कहा कि, ‘‘हम यहां से नहीं हटेंगें, धरना जारी रखेंगे, सरकार से कोई समझौता नहीं हुआ है. हम पांच प्रतिशत आरक्षण का आदेश चाहते है.’’ उन्होंने कहा कि गुर्जर समुदाय को पांच प्रतिशत आरक्षण देने का सरकार ने अपने घोषणा पत्र में वादा किया है इसलिये सरकार का दायित्व बनता है कि वह हमें आरक्षण दें.

गुर्जर समाज सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्‍थानों में प्रवेश के लिए गुर्जर, रायका रेबारी, गडिया, लुहार, बंजारा और गड़रिया समाज के लोगों को पांच प्रतिशत आरक्षण की मांग कर रहा है. वर्तमान में अन्‍य पिछड़ा वर्ग के आरक्षण के अतिरिक्‍त 50 प्रतिशत की कानूनी सीमा में गुर्जरों को अति पिछड़ा श्रेणी के तहत एक प्रतिशत आरक्षण अलग से मिल रहा है.

Web Title : Raising of Gujjars on railway tracks as well as on Sunday for demand of reservation