राजस्थान में बीजेपी के अधिकांश फैसले दिल्ली से हो रहे हैं

प्रदेश भाजपा भी कांग्रेस की तर्ज पर अधिकांश फैसले हो रहे हैं राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के स्तर पर

खोज खबर
जयपुर। देश में भारी बहुमत से दूसरी बार सत्ता में आई भाजपा में अंदरूनी बदलाव तेजी से हो रहे हैं। बदलाव की सुगबुगाहट राजस्थान भाजपा में भी देखी जा रही है। पार्टी के अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि वह दिन दूर नहीं जब प्रदेश भाजपा भी कांग्रेस के नक्शे कदम पर चलती दिखेगी। वैसे अभी से ही प्रदेश भाजपा के अधिकांश छोटे बडे फैंसले भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के स्तर पर ही किए जा रहे हैं। भाजपा के कुछ वरिष्ठ नेताओं का कहना है कि प्रदेश भाजपा में बहुत तेजी से आंतरिक ढांचा बदल रहा है। कभी देश भर में राजस्थान भाजपा को सबसे मजबूत इकाई माना जाता था। लेकिन अब स्थिति लगातार बदलती जा रही है। विधान सभा चुनाव से पहले प्रदेश अध्यक्ष बनाए गए मदन लाल सैनी केवल रबर स्टैंप की भूमिका निभा रहे हैं। भाजपा के रार्ष्टीय अध्यक्ष अमित शाह के स्तर पर हुए फैंसलों पर सैनी केवल रबर स्टैंप की भूमिका तक सीमित हैं और यह तस्वीर एक दो बार नहीं लगातार बन रही है।
बैठक हो या नियुक्ति सब कुछ दिल्ली से पूछो
प्रदेश भाजपा की हालत तो ऐसी है कि अगर प्रदेश भाजपा कार्यसमिति की बैठक भी
करनी होती है तो उसके लिए संगठन महामंत्री चन्द्रशेखर से पूछना पड़ता है। चन्द्रशेखर दिल्ली से कार्यसमिति की बैठक के लिए पूछते हैं तब कहीं जाकर बैठक होती है। इसके साथ ही संगठनात्मक नियुक्तियां समेत अधिकांश कार्य दिल्ली से ही हो रहे हैं। भाजपा अध्यक्ष मदन लाल सैनी भी कुछ मामलों में बयान भी यही देते आए हैं कि फलां मामले को तो शीर्ष नेतृत्व ही तय करेगा।
प्रदेश भाजपा पर संघ लॉबी हावी
भाजपा सूत्रों के अनुसार जब से मदन लाल सैनी को भाजपा अध्यक्ष बनाया गया है तब से भाजपा कार्यालय न होकर संघ कार्यालय जैसा माहौल दिख रहा है। संगठन महामंत्री चन्द्र शेखर यहां कैंप कर रहे हैं और संघ के नेता ही यहां नजर आते हैं। प्रदेश भाजपा नेता तो यहां कभी कभार ही नजर आते हैं। वहीं सैनी के कक्ष में भी ज्यादातर समय संघ पृष्ठभूमि के कार्यकर्ता और नेता ही ज्यादा नजर आते हैं।

Web Title : rajasthan BJP big news