राजस्थान: चुनावी परिदृश्य के साथ बदल रहे सट्टा बाजार के भाव

ताजा माहौल में पल पल की अपटेड ले रहे है सट्टोरियें

चुनाव में हार जीत का परिणाम तो मतगणना के बाद ही पता चलता है लेकिन उससे पहले भी एक सिस्टम है जिसके जरिए अनुमान लगाया जाता है कि कौन सा दल कितनी सीटें हासिल करेगा, किस दल की सरकार बनेगी. कौन सा प्रत्याशी किस पर भारी साबित होगा और इसी अनुमान लगाने वाले सिस्टम को सट्टा बाजार कहते हैं। हालांकि सट्टेबाजी पूरी तरह गैर कानूनी है, इसके बावजूद भी चुनावी दौर में अरबों-करोड़ो के सट्टे होते है और सट्टा बाजार के उतार-चढाव में राजनैतिक दलों की भागीदारी रहती है !

बीकानेर। राजस्थान की सत्ता के लिये चुनावी घमासान शुरू होने के साथ ही सट्टा बाजार ने भी जोर पकड़ लिया है और सोमवार को गहमा गहमी भरे सियासी माहौल में उम्मीदवारों द्वारा नामांकन दाखिले के बाद सट्टा मार्केट ने भी अपनी बिसात बिछा दी है। सियाणी रणनीतिारों की तरह सट्टोरियें भी चुनावी घमासन से जुड़ी पल-पल की अपडेट ले रहे है। चुनावी सट्टा जगत से जुड़े सूत्रों के मुताबिक विधानसभा चुनाव पर इस बार तीन से लेकर 5 हजार करोड़ का सट्टा लगने का अनुमान है। खबर है कि चुनावी माहौल में लगातार बदल रहे सियासी परिदृश्य के साथ साथ सट्टा बाजार के भावों में भी उतार.चढाव का दौर चल रहा है।

भावों की बात करें तो तीन दिन पहले तक यहां कांग्रेस के भाव 25 से 30 पैसा जबकि बीजेपी के 3 रुपए बताए जा रहे हैं। लेकिन टिकटों के लेकर कांग्रेस में हुए महासंग्राम के बाद भावों में थोड़ा बदलाव आया है और फिलहाल कांग्रेस के भाव 35 से 40 पैसा जबकि भाजपा के 2ण्50 रुपए बताये जा रहे है। नामांकन दाखिले के कुछ हद साफ हुई चुनावी तस्वीर के बाद सट्टोरियें दोनों की पार्टियों पर खुलकर दाव लगा रहे है। बीकानेर का सट्टा बाजार अपने सटीक आंकलन के लिए देशभर में चचार्ओं में रहता है और यहां सट्टेबाजी की रोकथाम के लिये पुलिस के पुख्ता इंतजामों और दावों के बावजूद हाईटेक तरीके से सट्टे का खेल चल रहा है।

खबर है कि बीकानेर में इस बार गंगाशहर.भीनासर के बड़़े सटोरियों ने अपनी पूरी बिसात बिछा दी है । इस बार का सट्टा बाजार पूरी तरीके से हाईटेक है। व्हाट्सएप कॉलिंग जैसे सोशल माध्यमों का उपयोग किया जा रहा है। ताजा चुनावी हालातों को लेकर सट्टा बाजार का आंकलन है इस समय कांग्रेस भाजपा पर भारी साबित हो रही है। हालांकि कांग्रेस के भीतर चल रही गुटबाजी से उसे नुकसान होने की भी पूरी.पूरी आशंका है। लेकिन सट्टा बाजार में कांग्रेस और भाजपा के बीच अभी सीटों की जीत का अंतर काफी ज्यादा नजर आ रहा है।

ताजा चुनावी माहौल को देखते हुए सट्टा बाजार ने प्रदेश में इस बार सत्ता परिवर्तन होने और स्पष्ट बहुमत के साथ कांग्रेस की सरकार बनने की संभावना जताई है। सट्टा बाजार से जुड़े सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस 125 से 126 सीटों के साथ सरकार बना रही है वहीं भारतीय जनता पार्टी 50 से 55 सीटों पर सिमट जाएगीण्ण् ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है।

Web Title : Rajasthan: Speculative market prices changing with electoral scenario