रामदेव ने पेट्रोल-डीजल 35-40 रु/लीटर बेचने का किया दावा, बीजेपी के लिए नहीं करेंगे प्रचार

नई दिल्ली: देश में पेट्रोल डीजल में बढ़े दाम से मचे घमासान के बिच योग गुरु बाबा रामदेव ने इसे लेकर इशारों-इशारों में मोदी सरकार पर निशाना साधा है. एक ओर जहाँ देश के कुछ जगहों पर पेट्रोल की कीमत 90 रुपये के आसपास तक पहुंच गई है, तब योग गुरु और पतंजलि आयुर्वेद के संस्थापक बाबा रामदेव ने दावा किया है कि वह 35 से 40 रुपये प्रति लीटर डीजल-पेट्रोल बेच सकते हैं, बशर्ते सरकार उनको इसकी अनुमति दे दे. बाबा रामदेव ने एक प्राइवेट न्यूज चैनल के खास कार्यक्रम में कहा, ‘अगर सरकार मुझे डीजल-पेट्रोल बेचने दे और टैक्स में कुछ छूट दे दे तो मैं भारत को पेट्रोल-डीजल 35-40 रुपये प्रति लीटर में दे सकता हूं. ईंधन को जीएसटी के अंदर लाने की जरूरत है और इस पर 28 प्रतिशत टैक्स वाली कैटिगरी में नहीं रखना चाहिए.’

रामदेव के इस दावे से यही आभास होता है कि पेट्रोल और डीजल की कीमत के दाम उतने नहीं होने चाहिए थे, जितने अभी हैं। सरकार चाहे तो इनके दाम घट सकते हैं। रामदेव ने अपने इस दावे के साथ मोदी सरकार को यह भी चेतावनी दे दी कि बढ़ती कीमतें सरकार को महंगी पड़ेंगी। उन्होंने कहा, ‘कई लोग मोदी सरकार की नीतियों की तारीफ करते हैं, लेकिन कुछ नीतियों में अब बदलाव की जरूरत है। कीमत वृद्धि एक बड़ा मुद्दा है और मोदीजी को जल्द सुधार के कदम उठाने होंगे। ऐसा नहीं होने पर महंगाई की आग तो मोदी सरकार को बहुत महंगी पड़ेगी।’

रामदेव ने दावा तो कर दिया लेकिन ऐसा हो पाना मुमकिन नहीं

जानकार मानते हैं रामदेव ने कहने को भले ऐसा दावा कर दिया लेकिन ऐसा हो पाना मुमकिन नहीं. उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारें यदि इसपर अपने टैक्स पूरी तरह से हटा लेती हैं. साथ ही डीलर कमिशन को भी हटा लिया जाए तो भी दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल के दाम 41.48 पैसे होंगे, जो रामदेव के किए दावे से ज्यादा है. इसके अलावा, यह संभव भी नहीं कि सरकारें पेट्रोल-डीजल को पूरी तरह टैक्स मुक्त कर दें. इसकी वजह यह है कि यह राजस्व का एक मुख्य स्रोत है. साथ ही इसके जरिए वायु प्रदूषण को काबू करने का यह एक प्रयास होता है. हालांकि, इसमें कोई शक नहीं कि तेल पर वसूले जाने वाला टैक्स उसकी वास्तविक कीमत का सौ प्रतिशत होता है.

असल में ईंधन के दाम तभी कम हो सकते हैं जब भारत कच्चे तेल का कम आयात करे, और घरेलू तरीके से अपनी इस जरूरत को पूरा कर सके. वर्तमान में भारत अपने कुल उपयोग का 80 प्रतिशत कच्चा तेल निर्यात करता है. इसलिए पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर अंतरराष्ट्रीय वजहों से असर पड़ता रहेगा.

राजनीति से दूर हो गया- बाबा रामदेव

रामदेव को सत्ताधारी बीजेपी का समर्थक माना जाता है, लेकिन उन्होंने अब राजनीति से खुद को दूर कर लिया है। जब उनसे पूछा गया कि क्या वह अगले लोकसभा चुनाव में बीजेपी के लिए प्रचार करेंगे, उन्होंने कहा,’ मैं क्यों करूं? मैं उनके लिए प्रचार नहीं करूंगा। मैंने राजनीति से दूरी बना ली है। मैं सभी पार्टियों के साथ हूं और मैं स्वतंत्र हूं।’ रामदेव ने माना कि वह मध्यमार्गी हैं और न दक्षिणपंथी हैं और न ही वामपंथी। उन्होंने कहा, किसी को मुझे छेड़ने की जरूरत नहीं है क्योंकि मैंने कई विषयों पर ‘मौन योग’ धारण कर लिया है। बाबा रामदेव ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की आलोचना करना लोगों का मौलिक अधिकार है। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि पीएम मोदी ने स्वच्छ भारत अभियान जैसे अच्छे कार्य किए हैं और कोई बड़ा घोटाला नहीं होने दिया है। हालांकि, राफेल डील पर सवाल उठ रहे हैं।

 

Web Title : Ramdev claims to sell petrol-diesel 35-40 rupees / liter