ये बात हजम नहीं हुई , अब हाजमोला को भाग रहे है मोदी के विरोधी

देश की सरकार के लिए आये एग्जिट पोल पर ममता ने कहा है कि यह पीएम का गेमप्लान है क्योंकि अधिकतर नेशनल मीडिया पर केंद्र में सत्तारूढ़ सरकार का प्रभुत्व है।

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2019 के सभी सातों चरणों के मतदान खत्म होते ही विभिन्न टीवी चैनलों पर आए एक्जिट पोल में मोदी के नेतृत्व में एक बार फिर से देश में एनडीए की सरकार बनती दिखाई गई है। एग्जिट पोल्स मोदी के विरोधियों की नींद उड़ा दी है.इन सभी दलों ने एग्जिट पोल्स को सिरे से खारिज करते हुए कहा है कि 23 मई को नतीजे कुछ और होंगे।

एग्जिट पोल्स को कांग्रेस ने सिरे से ख़ारिज किया है। दिल्ली कांग्रेस प्रवक्ता जितेंद्र कोचर का कहना है कि यह बहुत जल्दी है। नतीजे तो 23 को आएंगे, तब देखेंगे। कोचर ने गत 2004 के एग्जिट पोल का हवाला देते हुए कहा कि उस समय भी भाजपा इंडिया शाइनिंग कर रही थी, एग्जिट पोल भी भाजपा को जिता रही थी। लेकिन हुआ क्या? एग्जिट पोल को धता बताते हुए कांग्रेस ने सरकार बनाई।

आप को भ्रमित लगा एग्जिट पोल: आम आदमी पार्टी ( आप ) के नेता संजय सिंह ने कहा कि यह सिर्फ भ्रमित का करने वाला है। दिल्ली की सातों सीटें हम जीत रहे हैं। अनुमान हमेशा झूठे साबित होते हैं। ओपिनियन पोल में पैसे लेकर सीटें घटाई या बढ़ाई जाती हैं। पंजाब में 2014 में जब 0 सीट दी जा रही थी, तब चौंकाने वाले रिजल्ट आए थे। पंजाब में सीटों का आकलन नहीं कर सकता। वहां मैं गया, हमारा वोट कम हुआ, मान लेता हूं। मगर क्या मुस्लिम का वोट भाजपा को मिला? एग्जिट पोल मिठाई बांटने और ढोल पीटने के लिए ठीक है।

उमर अब्दुला का ट्विट: ट्विटर पर उमर ने लिखा कि सभी एग्जिट पोल गलत नहीं हो सकते। समय आ गया है जब टीवी बंद करूं, सोशल साइट से लॉगआउट करने के बाद इस बात का इंतजार करूं और देखूं कि क्या 23 मई को दुनिया बदल जाएगी।

ममता ने ये कहा: तृणमूल प्रमुख व पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एग्जिट पोल को गॉसिप करार देते हुए कहा कि उन्हें जनादेश पर विश्वास है। ममता बनर्जी ने तंज कसते हुए कहा कि इतिहास गवाह है कि एग्जिट पोल के नतीजे किस तरह धाराशायी हुए हैं। देश के मतदाता समझदार है, वे अपने दिल की बात नहीं बताते हैं और इस वजह से आप किसी भी एग्जिट पोल के नतीजे पर भरोसा कैसे कर सकते हैं।

Web Title : rkk