सचिन पायलट की पत्नी सारा पायलट नहीं है किसी से कम, बेहद दिलचस्प ऐसी है लव स्टोरी

अगर सचिन सीएम बने तो सारा की बल्ले-बल्ले, भाई उमर, पिता फारूक और दादा अब्दुल्लाह रहे हैं सीएम

जयपुर: सचिन पायलट की पत्नी सारा पायलट बेहद खुबसूरत और ग्लैमरस महिला हैं। वैसे तो राजनीति के गलियारों में सचिन पायलट की पत्नी सारा पायलट की चर्चा कम ही होती है, लेकिन सारा पायलट का राजनीति के साथ जन्म से बड़ा गहरा नाता है। सचिन पायलट की पत्नी सारा पायलट जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला की बेटी और उमर अब्दुल्ला की बहन हैं। बताया जाता हैं कि सारा पायलट और सचिन पायलट के बीच बेहद गजब की केमिस्ट्री है।सचिन पायलट की पत्नी सारा पायलट नहीं है किसी से कम, बेहद दिलचस्प हैं दोनों की 'लव स्टोरी'

लोग कहते हैं कि हर जम्यब आदमी के पीछे एक महिला का हाथ होता हैं, ये बात शायद सचिन पायलट पर बिलकुल फिट बैठती है। क्योंकि सारा पायलट के सपोर्ट के बिना सचिन पायलट का राजनीति की दुनिया में इतना बड़ा मुकाम पाना मुश्किल होता।

जब सचिन पायलट राजनीति के काम से पूरे देश का दौरा करते हैं, तब सारा पायलट घर पर रहकर बच्चों को संभालती हैं। इसके आलावा सारा पायलट यूनाइटेड नेशन की भारतीय विंग में महिला विकास के लिए भी काम करती हैं। जब 90 के दशक में जम्मू-कश्मीर में अशांति और अराजकता का वातावरण बन रहा था, तब सारा पायलट अपनी मां के साथ लंदन चली गई थीं।

सारा-सचिन- पहली नजर में प्यार

सारा पायलट के पिता फारूक अब्दुल्ला और सचिन पायलट के पिता पूर्व केंद्रीय मंत्री राजेश पायलट राजनीतिक दोस्त थे। जब एक शादी समारोह में दोनों के परिवार मिले तब वहीँ सचिन पायलट और सारा पायलट की पहली मुलाकात हुई थी। और दोनों एक दूसरे को पसंद करने लगे थे।

सचिन और सारा की पहली मुलाकात के बाद सब कुछ आसन नहीं था। इसके बाद दोनों को मुलाकात के लिए लंबा इंतजार करना पड़ा। दिल्ली के सेंट स्टीफन कॉलेज से ग्रेजुएशन के बाद जब सचिन पायलट एमबीए (मास्टर्स इन बुज्नस एडमिनिस्ट्रेशन) करने के लिए अमेरिका गए तब दोनों की एक बार फिर मुलाकात हुई।sachin pilot

पढ़ते-पढ़ते… ‘प्यार’ हो गया

अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ पेनसिल्वेनिया के व्हार्टन स्कूल ऑफ बिजनस में धीरे-धीरे सारा पायलट और सचिन पायलट की दोस्ती प्यार में बदलने लगी थी। सचिन और सारा अब एक दुसरे को डेट करने लगे थे। लेकिन दोनों की लव स्टोरी के रास्ते में अभी कई रोड़े थे।

सारा अपनी पढ़ाई के बाद भी विदेश में ही रही, लेकिन सचिन पायलट वापस भारत लौट आए थे। जुदाई के इस लंबे दौर में दोनों अक्सर फोन पर बातें करते रहते और ई-मेल और टेक्स्ट मेसेज का दौरा जारी रहा। सारा ने एक टीवी इंटरव्यू में भी इस बात का जिक्र किया था। जुदाई के वक्त ई-मेल और टेक्स्ट मैसेज से सारा और सचिन हमेशा जुड़े रहे जिससे उनका प्यार और गहरा होता गया।sachin pilot

सारा-सचिन और फैमिली-फैमिली

जब सारा और सचिन पायलट को लगने लगा कि दोनों जिंदगीभर साथ निभा सकते हैं तो उन्होंने अपने परिवार वालों को मनाने की ठानी। सारा ने विदेश में ही एक बार सचिन पायलट को अपनी मां से मिलवाया था और उन्हें अपनी लव स्टोरी बताई थी।sachin pilot

सचिन पायलट की मासूम मुस्कराहट ने पहलीबार में ही सारा पायलट की मां का दिल जीत लिया, लेकिन सारा के पिता फारूक अब्दुला को मनाना अभी आसन नहीं था। फारूक अब्दुला अपनी बेटी सारा पायलट से बेहद प्यार करते थे। फारूक अब्दुला कुछ राजनीतिक और धार्मिक कारणों से भी सारा और सचिन की लव स्टोरी के खिलाफ थे। वहीं सचिन पायलट का परिवार भी एक मुस्लिम लड़की को अपनी बहू बनाने के लिए तैयार नहीं था।sachin pilot

बाद में सचिन पायलट ने अपनी मां रमा पायलट को मना लिया, लेकिन जम्मू कश्मीर में जैसे ही इस राज से पर्दा उठा फारूक अब्दुला को बेहद आलोचना का सामना करना पड़ा। घाटी में कुछ मुस्लिम कट्टरपंथियों ने कहा कि फारूक अब्दुला की बेटी एक काफिर से शादी करने जा रही हैं। उस दौर में फारूक अब्दुला को अपनी पार्टी के कुछ विधायकों के भी विरोध का सामना करना पड़ा।

सारा-सचिन के प्यार पर पहरा

फारूक अब्दुला की पार्टी नेशनल कांफ्रेंस के कुछ विधायकों ने कहा था कि इस्लाम के मुताबिक मुस्लिम युवक किसी भी गैर मुस्लिम महिला से शादी कर सकता हैं लेकिन कोई मुस्लिम महिला किसी गैर मुस्लिम युवक से शादी नहीं कर सकती है। इसके बाद फारूक अब्दुला ने सचिन और सारा के प्यार पर पहरा लगा दिया। उन्होंने दोनों की फोन पर होने वाली बातचीत पर भी पाबंदी लगा दी थी। फारूक अब्दुला की इस पाबंदी के बाद दोनों ने कुछ समय इंतजार करने का फैसला किया।

सारा-सचिन शादी और बच्चें 

जब इसी तरह इंतजार में तीन साल गुजर गए और स्थिति ऐसी ही बनी रही तब सचिन और सारा ने शादी का फैसला किया। 15 जनवरी 2004 में एक सादे समारोह में सचिन और सारा की शादी हुई।

इस शादी में सारा पायलट के पिता फारूक अब्दुल्ला और उनके भाई उमर अब्दुल्ला दोनों ही नहीं आए थे। अब सारा और सचिन पायलट की शादी को करीब 14 साल हो गए हैं। सचिन और सारा पायलट खुशी से अपनी जिंदगी बिता रहे हैं। सचिन और सारा पायलट के आरन और विहान नाम के दो बेटे भी हैं।   

आपको बता दें कि 2004 में सारा ने सचिन पायलट से शादी की थी. दोनों विदेश में पढ़ाई करते थे इसी दौरान वो एक-दूसरे के प्रेम में पड़ गए और फिर दोनों की शादी हो गई. सारा के सचिन पायलट से शादी करने के फैसले से उनके पिता फारूक अब्दुल्लाह खिलाफ थे, लेकिन प्यार में सारा ने अपने पिता की एक न सुनी.

शेख अब्दुल्लाह, सारा के दादा

सारा के दादा शेख अब्दुल्लाह शेर-ए-कश्मीर के नाम से विख्यात हैं और वो जम्मू कश्मीर के पहले सीएम बने थे. हालांकि, सीएम पद से हटने के बाद उन्हें जेल में भी डाला गया. जब वह जेल से बाहर आए तो 1974 में फिर से प्रदेश के मुख्यमंत्री बने. 1974 में सीएम बनने के बाद शेख अब्दुल्लाह 1982 में निधन तक प्रदेश के सीएम बने रहे. शेख अब्दल्लाह ने जम्मू कश्मीर नेशनल कॉन्फ्रेंस की स्थापना की थी.

फारूक अब्दुल्लाह- सारा के पिता

फारूक अब्दुल्लाह, सारा के पिता हैं और वह 1982 में पहली बार जम्मू कश्मीर के सीएम बने थे. फारूक एक बेटे और तीन बेटियों के पिता हैं. फारूक ने एक ब्रिटिश मूल की महिला से शादी की थी. इनके बेटे उमर अब्दुल्लाह भी प्रदेश के सीएम रह चुके हैं.

गुलाम मोहम्मद शाह- सारा के फूफा

गुलाम मोहम्मद शाह, सारा के फूफा हैं और वह 1984 से 86 के बीच जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री रहे थे. गुलाम मोहम्मद शाह, फारूक अब्दुल्लाह के बहनोई हैं और शेख अब्दुल्लाह के दामद. साल 2008 में उन्होंने अवामी नेशनल कॉन्फ्रेंस नाम से पार्टी बनाकर चुनाव भी लड़ा था.

उमर अब्दुल्लाह- सारा के भाई

उमर अब्दुल्लाह, सारा के भाई हैं. उमर अब्दुल्लाह जम्मू कश्मीर के सबसे युवा मुख्यमंत्री रह चुके हैं जब उन्होंने कांग्रेस पार्टी के साथ मिलकर 2009 में सीएम की गद्दी संभाली थी.

Web Title : Sachin Pilot's wife is not Sarah Pilot, less than anyone