जयपुर एयरपोर्ट निजी हाथों में सौंपने का विरोध

जयपुर एयरपोर्ट के विकास के लिए भूमि राज्य सरकार ने नि:शुल्क दी। जब भूमि नि:शुल्क दी तो संचालन बदलने में अनुमति लेनी चाहिए थी। निजी कंपनी अडानी को जब संचालन दिया जा रहा है तो सरकार से क्यों नहीं पूछा गया। न राज्य सरकार से अनुमति ली और न निजीकरण के बारे में जानकारी दी।

राज्य सरकार ने जताई आपत्ति
खोज खबर
जयपुर। जयपुर एयरपोर्ट को निजी हाथों में सौंपे जाने का राज्य सरकार ने विरोध किया है। राज्य के नागरिक विमानन निदेशालय ने इसे लेकर एयरपोर्ट अथॉरिटी आफ इंडिया के सामने आपत्ति जताई है। निदेशक केसरी सिंह ने एयरपोर्ट अथॉरिटी को पत्र लिखकर कहा है कि पिछले माह जयपुर एयरपोर्ट के संचालन और मेंटीनेंस का कार्य निजी कंपनी अडानी एंटरप्राइजेज को सौंपने का निर्णय किया गया है, लेकिन क्या इसके लिए राज्य सरकार से अनुमति ली गई है। पत्र में यह कहा गया है कि चूंकि जयपुर एयरपोर्ट के लिए भूमि राज्य सरकार द्वारा उपलब्ध कराई गई थी। यह भूमि एयरपोर्ट अथॉरिटी को राज्य सरकार द्वारा नि:शुल्क दी गई थी। ऐसे में बिना राज्य सरकार की सहमति के एयरपोर्ट का संचालन निजी संस्था को देना उचित नहीं है। राज्य सरकार की सभी गतिविधियों का संचालन स्टेट हैंगर से होता है, जो कि जयपुर एयरपोर्ट की परिधि में ही स्थित है। निदेशक केसरी सिंह ने इस बात को लेकर चिंता जाहिर की है कि एयरपोर्ट का संचालन निजी हाथों में देने पर स्टेट हैंगर से होने वाली राज्य सरकार की गतिविधियों पर असर होगा। जयपुर एयरपोर्ट प्रशासन ने राज्य सरकार की आपत्तियों वाले इस पत्र को मुख्यालय को भेज दिया है।
ये है राज्य सरकार की आपत्ति
जयपुर एयरपोर्ट के विकास के लिए भूमि राज्य सरकार ने नि:शुल्क दी। जब भूमि नि:शुल्क दी तो संचालन बदलने में अनुमति लेनी चाहिए थी। निजी कंपनी अडानी को जब संचालन दिया जा रहा है तो सरकार से क्यों नहीं पूछा गया। न राज्य सरकार से अनुमति ली और न निजीकरण के बारे में जानकारी दी। ऐसे में यदि कंपनी एयरपोर्ट संभालेगी तो स्टेट हैंगर का क्या होगा क्योंकि राज्य के वीआईपीज का आवागमन स्टेट हैंगर से ही होता है तो क्या स्टेट हैंगर का संचालन भी निजी कंपनी के मार्फत ही किया जाएगा।

Web Title : sanganer airport latest news rajasthan govt does objection