हत्या के मामले में विवादित संत रामपाल दोषी करार, 16-17 अक्टूबर को सुनाई जाएगी सजा

नई दिल्ली: सतलोक आश्रम प्रकरण में हरियाणा की हिसार जेल में बंद विवादित संत रामपाल को हत्या के दोनों मामले में कोर्ट ने दोषी करार दे दिया है। रामपाल को हरियाणा के सतलोक आश्रम में करीब चार साल पहले पांच महिलाओं और एक बच्चे की हत्या के मामले में दोषी करार दिया गया है। फैसले के लिए हिसार की सेंट्रल जेल को ही कोर्ट रूम में तब्दील किया गया था। इस दौरान किसी भी तरह के उपद्रव या हिंसा की आशंका को देखते हुए हिसार में धारा 144 लागू कर दी गई थी। इसके अलावा चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे। ये थे दोनों मामले, इन्हीं मामलों में दोषी साबित हुए…

एफआईआर नंबर 429 के मुताबकि नवंबर 2014 में बरवाला के सतलोक आश्रम में रामपाल के समर्थकों और पुलिस के बीच झड़प के दौरान वह और उसके 15 समर्थकों पर चार महिलाओं और एक बच्चे की हत्या करने का आरोप है। एफआईआर नंबर 430 के मुताबिक रामपाल और उसके 13 समर्थकों पर नवंबर 2014 में बरवाला के सतलोक आश्रम में रामपाल के समर्थकों और पुलिस के बीच झड़प के दौरान आश्रम के भीतर एक महिला की हत्या का आरोप है। आज इन दोनों मुकदमों यानी मुकदमा नंबर 429 और 430 में फैसला सुनाया गया। सरकारी पक्ष रामपाल और आश्रम संचालकों को इन हत्याओं के लिए जिम्मेदार बता रहा था जबकि बचाव पक्ष इन केसों में पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई से हुई मौत बता रहे थे। बहराहाल रामपाल को अदालत ने दोषी पाया।

वहीं कानून व्यवस्था की स्थिति को बनाए रखने के लिए राजस्थान, पंजाब, मध्यप्रदेश और हरियाणा से विभिन्न हिस्सों से हिसार आने वाली ट्रेनों के परिचालन पर भी रोक लगाई गई। प्रशासन ने मामले को गंभीरता से लेते हुए रैपिड एक्शन फोर्स की कंपनियां भी तैनात की।

Web Title : Sant Rampal convicted in murder case