SMS अस्पताल के बांगड़ में OT के स्टोर में लगी आग, SMS टीम की तत्परता से टला बड़ा हादसा

जयपुर: राजस्थान की राजधानी जयपुर में स्थित प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल के दूसरी मंजिल पर स्थित सीटी सर्जरी विभाग के आॅपरेशन थिएटर के स्टोर में बुधवार सुबह करीब 5 बजे भीषण आग लग गई। अचानक भरे धुंऐ से आईसीयू और वार्डों में भर्ती मरीज ओर उनके परिजनों की हालत खराब हो गई। इस दौरान तुरंत मरीजों को दूसरे वार्डों में शिफ्ट करके आग पर काबू पाया गया।

जानकारी के मुताबिक एसएमएस अस्पताल के बांगल में बने सीटी ऑपरेशन थियेटर के स्टोर में बुधवार सुबह 5.30 बजे आग लग गई। स्टोर से धुंआ निकलता देख वहां पर अफरा-तफरी मच गई। चश्मदीदों के मुताबिक स्टोर के पास बने सीटी वार्ड और कार्डिक वार्ड में मरीज मौजूद थे। इस दौरान तुरंत दमकल को सूचना देकर मरीजों को दूसरे वार्डों में शिफ्ट किया गया। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक करीब एक घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सकता।

प्रारंभिक जांच में शार्ट सर्किट को आग की वजह बताई जा रही है। वहीं आग पर काबू पाए जाने के बाद मरीजों को दोबारा से उसी वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया। घटना की जानकारी मिलते ही एसएमएस के अधीक्षक डीएस मीणा भी अस्पताल के आला डॉक्टरों के साथ मौके पर पहुंचे। वहीं स्टोर में आग लगने की जानकारी मिलते ही पूरे बांगड परिसर में भर्ती मरीजों में हडकंप मच गया। सेमी आईसीयू की आॅक्सीजन लाइन चालू नहीं थी तो दूसरी ओर मरीजों को दूसरी जगह ले जाने के लिए स्ट्रेचर तक नहीं मिले और परिजन उन्हें गोद में उठा कर ले गए।प्रदेश के सबसे बडे अस्पताल में आग——ऐसे मरीजों को लेकर भागे परिजन

तीन घंटे तक पूरे बांगड परिसर में अफरा तफरी का माहौल रहा। आग लगने का कारण शाॅर्ट सर्किट बताया जा रहा है।सीटी सर्जरी आॅपरेशन थिएटर के पास स्टोर धूं धू करके जलने लगा और धुंआ सबसे पहले थिएटर के पास बने 12 बेड के सीटी सर्जरी आईसीयू में भरा। मरीजों में चीख पुकार मची तो परिजन मरीजों को उठाकर बाहर भागे।

नर्सिंग कर्मियों ने आईसीयू के मरीजों को सीटी सर्जरी वार्ड के सेमी आईसीयू में शिफ्ट किया। नर्सिंग कर्मियों ने आईसीयू से मरीजों को निकाल कर वार्ड के सेमी आईसीयू में भर्ती तो कर दिया लेकिन जो मरीज आईसीयू में आॅक्सीजन पर थे उनको वहां कुछ ही देर में तकलीफ होने लगी लेकिन वहां आॅक्सीजन की कोई व्यवस्था नहीं थी। अफरा तफरी मची तो पता चला कि सेमी आईसीयू में आॅक्सीजन लाइन बंद थी। आनन-फानन में एक दर्जन आॅक्सीजन सिलेंडर मंगा कर आॅक्सीजन सप्लाई शुरू की गई तब जाकर मरीजों की जान में जान आई। अस्पताल प्रशासन के अधिकारियेां ने मरीजो को यह तो बताया कि वैकल्पिक व्यववस्था डे केयर सेंटर में कर दी गई है लेकिन मरीजों को वहां शिफ्ट करने के लिए न तो स्ट्रेचर दिए गए और न ही व्हील चेयर। परिजन मरीजों को गोद में लेकर भागते रहे।

Web Title : SMS fire at OT's store in Bangalore hospital