प्रदेश का पहला जीवन परामर्श केंद्र शुरू, जेएनवीयू के मनोविज्ञान विभाग की नई पहल

-आम जनता को मिलेगा फायदा

जोधपुर। जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय के मनोविज्ञान विभाग में बुधवार को विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस के अवसर राजस्थान का पहला जीवन परामर्श केंद्र विधिवत शुभारभ हुआ जहा कला संकाय के अधिष्ठाता प्रोफेसर कौशल नाथ उपाध्याय परामर्श केंद्र का फीता काटकर विधिवत शुभारंभ किया। मनोविज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर एल.एन. बुनकर ने बताया कि प्रदेश में इस प्रकार का अब तक का पहला जीवन परामर्श केंद्र है, जिसका लोकार्पण की तैयारियां काफी लंबे समय से चल रही थी जो विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर पूरी हुई।

बुनकर ने बताया कि इस केंद्र में व्यक्तित्व एवं व्यवहार से जुड़े विभिन्न प्रकार के परीक्षण किए जाएंगे जिसमें बुद्धि परीक्षण, व्यक्तित्व परीक्षण, अभिक्षमता परीक्षण के साथ ही काउंसलिंग भी की जाएगी। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स नामी साइकोलॉजिस्ट की अपनी सेवाएं देंगे। जिसका फायदा विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों सदस्यों को ही नहीं बल्कि जोधपुर एवं पश्चिमी राजस्थान की आम जनता को भी मिलेगा। बुनकर ने बताया कि इस केंद्र में आज के परिप्रेक्ष्य में युवाओं के समक्ष आ रही विभिन्न चुनौतियां जैसे मानसिक अवसाद, चिंता, तनाव आदि का भी परीक्षण किया जाएगा।

जल्द ही केंद्र में संगीत थैरेपी द्वारा किया जाना वाला परीक्षण भी शुरू होगा जिसके लिए संगीत विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. गौरव शुक्ल भी सेवाएं देंगे। केंद्र में विशेष बात यह रहेगी कि इसमें होने वाले सभी परीक्षण पूर्णतया निशुल्क होंगे। परामर्श केंद्र के शुभारंभ के मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में कला संकाय के अधिष्ठाता प्रोफेसर कौशल नाथ उपाध्याय, विशिष्ट अतिथि के रूप में मनोविज्ञान विभाग के पूर्व विभागाध्यक्ष प्रोफेसर आरपी सिंह एवं कार्यक्रम की अध्यक्षता वर्तमान विभागाध्यक्ष प्रोफेसर लक्ष्मी नारायण बुनकर ने की। प्रदेश के पहले जीवन परामर्श केंद्र में मनोविज्ञान की शिक्षिका प्रोफेसर विमला वर्मा, प्रोफेसर प्रीति माथुर, डॉ. हेमलता जोशी, डॉ. अर्पिता ककड़ भी अपनी सेवाएं देंगे।

Web Title : State's first life counseling center starts