सुनील अरोड़ा बने देश के मुख्य निर्वाचन आयुक्त, 2019 आम चुनाव की होगी जिम्‍मेदारी

चुनाव आयोग में सबसे वरिष्ठ निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा को मुख्य चुनाव आयुक्त नियुक्त किया गया है। इन्होंने रविवार 2 दिसंबर से अपना कार्यभार संभाल लिया है। बता दें कि पूर्व मुख्य निर्वाचन आयुक्त ओम प्रकाश रावत शनिवार को ही अपने पद से सेवानिवृत्त हो गए हैं। अब 7 दिसंबर को होने वाले तेलंगाना और राजस्थान में होने वाले विधानसभा चुनाव और आने वाले लोकसभा चुनाव इनकी देखरेख में होंगे।

नई दिल्ली: वरिष्‍ठ नौकरशाह सुनील अरोड़ा ने भारत के मुख्‍य निर्वाचन आयुक्‍त के रूप में अपना पदभार संभाल लिया है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा नियुक्त किए गए अरोड़ा निवर्तमान सीआईसी ओपी रावत की जगह अब चुनाव आयोग का कार्यभार संभालेंगे. इससे पहले विधि मंत्रालय की ओर से मंगलवार को जारी आधिकारिक अधिसूचना में कहा गया था कि राष्‍ट्रपति ने चुनाव आयोग में सबसे वरिष्‍ठ निर्वाचन आयुक्‍त सुनील अरोड़ा को मुख्‍य निर्वाचन आयुक्‍त के रूप में नियुक्‍त किया है.

बता दें ओपी रावत एक दिसम्‍बर, 2018 को मुख्‍य निर्वाचन आयुक्‍त के पद से सेवानिवृत्त हो गए निर्वाचन आयोग के प्रवक्ता ने मंगलवार को कहा था कि अरोड़ा आगामी दो दिसंबर को पदभार ग्रहण करेंगे.  62 वर्षीय अरोड़ा भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के 1980 बैच के राजस्थान कैडर के सेवानिवृत्त अधिकारी हैं. बतौर चुनाव आयुक्त अरोड़ा की नियुक्ति 31 अगस्त 2017 को हुयी थी.

राजस्थान में प्रशासनिक सेवा के दौरान विभिन्न जिलों में तैनाती के अलावा 62 वर्षीय अरोड़ा ने केन्द्र सरकार में सूचना एवं प्रसारण सचिव और कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय में सचिव के रूप में कार्य किया. इसके अलावा वह वित्त और कपड़ा मंत्रालय एवं योजना आयोग में विभिन्न पदों पर अपनी सेवाएं दे चुके हैं. वह 1993 से 1998 तक राजस्थान के मुख्यमंत्री के सचिव और 2005 से 2008 तक मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव भी रहे. यह बात दीगर है कि अरोड़ा के सीईसी बनने के बाद दो राज्यों में मतदान होने हैं, जिनमें राजस्थान और तेलंगाना शामिल है. इसके साथ ही 11 दिसंबर को छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना और मिजोरम में हुए मतदान के परिणाम आएंगे.

जानिए कौन हैं सुनील अरोड़ा?

1980 बैच के राजस्थान कैडर के आईएएस अधिकारी सुनील अरोड़ा का पिछले साल अगस्‍त में तीन सदस्‍यीय निर्वाचन आयुक्‍त की टीम में शामिल गया गया था। इससे पहले वे वित्त, कपड़ा एवं योजना आयोग जैसे मंत्रालयों एवं विभागों में भी विभिन्न पदों पर रह चुके हैं। वे साल 1999-2002 के दौरान नागरिक विमानन मंत्रालय में संयुक्त सचिव के पद पर काम कर चुके हैं। वे पांच साल तक इंडियन एयरलाइंस के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक (सीएमडी) भी रहे हैं, इसमें दो साल तक वह अतिरिक्त प्रभार में थे जबकि तीन साल तक उनके पास कंपनी का पूर्णकालिक प्रभार था। राजस्थान में धौलपुर, अलवर, नागौर और जोधपुर जैसे जिलों में तैनात रह चुके हैं। वे वर्ष 1993-1998 के दौरान मुख्यमंत्री के सचिव पद पर थे। वे वर्ष 2005-2008 के दौरान मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव थे। उन्होंने राज्य के सूचना एवं जनसंपर्क, उद्योग एवं निवेश विभागों में भी अपनी सेवाएं दी हैं।

Web Title : Sunil Arora becomes chief election commissioner