मारवाड़ी जायका भगाता है स्वाइन फ्लू का बुखार 

मारवाड़ी भोजन स्वाइन फ्लू सरीखी घटक बीमारियों को मात देने में माहिर है । कड़ी, राब, दलिया, बाजरे की रोटी और बाकी पारम्परिक भोजन स्वाइन फ्लू के बुखार को भगाता है ।

जोधपुर . दो साल बाद स्वाइन फ्लू ने मारवाड़ में फिर से दस्तक दी है। इस बार एच-1 एन-1 का पहला शिकार चार साल की बच्ची बनी है। डाक्टरों ने समय रहते बच्ची का उपचार कर उसे स्वस्थ तो कर दिया लेकिन अन्य लोगों को सावधानी बरतने की जरूरत है। स्वाइन फ्लू की आहट के डर के बाद अब सरकारी अस्पतालों में आईएलआई (इंफ्लुएंजा लाइक इलनेस) लक्षणों वाले मरीजों की भीड़ लग रही है। हालांकि अब तक वायरस के साथ कीटाणुओं के हमलों से अस्पताल की ओपीडी में मरीजों की तादात 15 फीसदी बढ़ गई है। साथ ही पिछले 2 महीने में 27 संदिग्ध मरीज मिले हैं। जनवरी में 10 और फरवरी में 17 स्वाइन फ्लू मरीजों की जांच हुई, जिसमे एक मरीज इस रोग से ग्रसित मिला। स्वाइन फ्लू की दस्तक के बाद डाक्टरों ने लोगों को इस मौसम में सचेत रहने की चेतावनी दी है।

कैसे करें स्वाइन फ्लू से बचाव

डा. अमित सागर बताते हैं कि यदि किसी व्यक्ति को सर्दी लगती हो और खांसी है या उसे साथ उसे सांस लेने में भी तकलीफ हो रही है तो इसे नजर अंदाज नहीं करें। ये लक्षण स्वाइन फ़्लू के हो सकते हैं। उनके मुताबिक हर बार सर्दी-खांसी स्वाइन फ़्लू का संकेत नहीं देती, फिर भी सर्दी-खांसी होने पर सावधानी रखना बेहद ज़रूरी है। उसके साथ यदि सांस लेने में तकलीफ होने लगे या तेज़ बुखार आ जाए तो तुरंत किसी अस्पताल में जाकर जांच कराना चाहिए। इसका का इलाज जितनी जल्दी शुरू किया जाए, ठीक होने की संभावना उतनी ही ज्यादा होती है। ऐसी स्थिति में आराम करने के साथ पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए, ताकि डी-हाइड्रेशन ना हो, वर्ना मर्ज बढ़ सकता है।

मारवाड़ी जायका भगाता है स्वाइन फ्लू का बुखार

सर्वपल्ली राधाकृष्ण आयुर्वेद विश्वविद्यालय जोधपुर के प्रोफ़ेसर डॉक्टर पीपी व्यास की माने तो मारवाड़ी भोजन स्वाइन फ्लू सरीखी घटक बीमारियों को मात देने में माहिर है । कड़ी, राब, दलिया, बाजरे की रोटी और बाकी पारम्परिक भोजन  स्वाइन फ्लू के बुखार को भगाता है । डॉक्टर व्यास बताते है कि रेगिस्तान में जलवायु के लिहाज से यहाँ खाने में प्रतिरोधक क्षमता वाले उत्पाद उपयोग में लिए जाते है, मसलन कड़ी में हल्दी का उपयोग होता है जो शरीर की प्रतिरोधकता बढाती है । इसके अलावा बाजरा और दलिया गर्म करता है और गर्म तासीर के कारण स्वाइन फ्लू सरीखी गंभी बिमारियों में पारम्परिक मारवाड़ी भोजन व्यक्ति के स्वाथ्य के लिए लाभदायक होता है ।

Web Title :